Sunday , 20 January 2019
Breaking News

सरकारी गनर ने गोल्डन बाबा पर दर्ज कराया मुकदमा, जमानत पर हुए रिहा

कुम्भनगरी (प्रयागराज), 14 जनवरी (उदयपुर किरण). तीर्थनगरी प्रयागराज में लग रहे कुम्भ मेले में जुटा संत समाज अपनी-अपनी विशेषताओं को लेकर चर्चा में है लेकिन इन चर्चाओं में शामिल गोल्डन बाबा पर विवाद के बादल छा गये हैं. गोल्डन बाबा पर उनके ही गनर ने धमकाने का आरोप लगाया तो पुलिस ने संत को हिरासत में ले लिया. बाद में उन्हें थाने से ही जमानत पर रिहा किया गया.

आस्था के लिए देश ही नहीं विदेशों में सुखियों में आई प्रयागराज की धरती पर कुम्भ के चलते इस समय साधु-संतों का जमावड़ा लगा हुआ है. यहां जुटे संत अपनी-अपनी अद्भुत व अलौकिक ख्याति के लिए खासे चर्चा में हैं. अपनी ख्याति के विपरीत रविवार को अचानक एक संत पर दर्ज मुकदमे ने बट्टा लगा दिया लेकिन संतों का मानना है कि किसी एक की गलती के लिए दूसरों को भी उसी पंक्ति में खड़ा कर देना कदाचित ठीक नहीं है.

लगभग साढ़े छह करोड़ कीमत के 20 किलो सोने के आभूषणों को पहनने वाले गोल्डन पुरी बाबा अपने आकर्षण के लिए समाचारों की सुखियों में बने रहते हैं. प्रयागराज में आयोजित कुम्भ नगरी में आज उनका नाम एक विवाद से जुड़ गया. संत पर आरोप किसी और ने नहीं बल्कि उनकी सुरक्षा में पुलिस विभाग द्वारा मुहैया कराये गये सरकारी गनर ने लगाया है. मूल रूप से संभल जनपद निवासी कांस्टेबल सतीश कुमार को गोल्डन बाबा की सुरक्षा में बीते साल नवम्बर माह के तैनात किया गया था. इस दौरान संत अपने गनर को क्षेत्र से बाहर गाजियाबाद ले गये जहां से वह गनर को प्रदेश से बाहर ले जाने लगे. गनर सतीश ने उनके साथ जाने से इंकार कर दिया.

आरोप है कि गोल्डन बाबा ने प्रदेश से बाहर जाने से मना करने पर गनर के साथ अभद्रता की और अंजाम भुगतने की धमकी भी दी. अभद्रता व धमकी से सहमे गनर ने संत को बिना बताये ही प्रयागराज लौटकर दारागंज थाने में संत के खिलाफ धमकी सहित अन्य मामले की तहरीर दी.मुकदमा दर्ज करते हुए पुलिस ने संत को कर्नलगंज थानाक्षेत्र में बैंक रोड स्थित एक मकान से हिरासत में ले लिया. इसके मुचलके की जमानत पर उन्हें छोड़ा गया.

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*