Wednesday , 15 August 2018
Breaking News

23 राज्यों से 61 काॅलेजों के 250 इंजीनियर्स की हिन्दुस्तान जिंक में नियुक्ति

हिन्दुस्तान जिंक भारत की एकमात्र एवं विश्व की अग्रणी जस्ता-सीसा एवं चांदी उत्पादक कंपनी है तथा खनन एवं स्मेल्टर्स की उत्पादन क्षमता का विस्तार कर रही है. कंपनी का आगामी 5 वर्षों में 1.0 मिलियन टन धातु उत्पादन से 1.5 मिलियन टन धातु उत्पादन करने का लक्ष्य. हिन्दुस्तान जिंक अपनी खदानों एवं स्मेल्टर्स की उत्पादन क्षमता में बढ़ोतरी करने की ओर प्रयासरत है.

इसी उद्देष्य को ध्यान में रखते हुए हिन्दुस्तान जिंक ने भारत के 23 राज्यों के 61 काॅलेजों से 250 इंजीनियर्स (जीईटी) की नियुक्त की है. ये सभी नवनियुक्त इंजीनियर्स खनन, इलेक्ट्रीकल, मैटलर्जीकल, केमीकल, इन्स्ट्रयूमेंटशन, इलेक्ट्रोनिक्स, सिविल इंजीनियर, मैकेनिकल एवं कम्प्यूटर इंजीनियरिंग से है. इन नवनियुक्त इंजीनियर्स को इण्डक्शन के दौरान कंपनी के विभिन्न विभागों से अवगत कराया जाएगा. कार्य के दौरान हिन्दुस्तान जिंक के इन सभी की विभाग के हेड के साथ चर्चा होगी. इण्डक्शन के पश्चात सभी नवनियुक्त इंजीनियर्स को राजस्थान में उदयपुर, जावर, भीलवाड़ा, चंदेरिया, दरीबा, अजमेर और उत्तराखंड के पंतनगर में स्थित हिन्दुस्तान जिंक की खदानो एवं स्मेल्टर्स में भेजा जाएगा.

इस अवसर पर हिन्दुस्तान जिंक के मुख्य कार्यकारी अधिकारी श्री सुनील दुग्गल ने कहा कि इन इंजीनियर्स का हिन्दुस्तान जिंक में नियुक्ति होने पर मुझे अत्यन्त प्रसन्नता है और यह भी कि भारत के सभी टाॅप इंजीनियरिंग काॅलेजों में खनन का महत्व समझा जाता है, क्योकि खनन क्षेत्र का देश के आर्थिक विकास में महत्वूपर्ण योगदान है. हमारी खदानों का विस्तार किया जा रहा है और जो इंजीनियर्स नियुक्त किये गये है उनमें नेतृत्व सम्भालने की क्षमता है. उन्होंने कहा कि इनका प्रोफेशनल जीवन इस बात पर निर्भर करेगा कि यह अपनी ऊर्जा, उत्साह एवं लगन से कैसे कार्य करते है. हिन्दुस्तान जिंक विचारों एवं नवाचारों के लिए एक उपयुक्त कंपनी है. हिन्दुस्तान जिंक में हमेशा सुरक्षा को महत्व दिया जाता है और कंपनी के सभी कर्मचारी सुरक्षा के प्रति कटिबद्ध है. सुरक्षा के प्रति उल्लंघन पर शून्य सहनशीलता है. सभी जीईटी को शतप्रतिशत सुरक्षा मानदण्डों का अनुपालन करना पडे़गा.

हिन्दुस्तान जिंक के हेड कार्पोरेट कम्यूनिकेषन पवन कौषिक ने बताया कि हिन्ुदस्तान ज़िंक न सिर्फ भारत में ही परन्तु पूरे विष्व में खनन क्षेत्र में अग्रणीय कंपनियों में गिना जाता है. इन सभी 250 जीईटीज को स्वतंत्र रूप से कार्य करने का अवसर मिलेगा तथा अपनी क्षमता को साबित करने का इन सभी के लिए एक सुनहरा मौका है.

इस अवसर पर हिन्दुस्तान जिंक के मुख्य कार्यकारी अधिकारी-श्री सुनील दुग्गल, मुख्य प्रचालन अधिकारी-खनन, श्री एल.एस. शेखावत, मुख्य कामर्षियल अधिकारी-श्री रामाकृष्णन काषीनाथ, हेड-कार्पोरेट कम्यूनिकेशन श्री पवन कौशिक, लोकेषन हेड-श्री के.सी.मीणा, हेड-आई.टी श्री चेतन त्रिवेदी, सीएसआर-हेड श्रीमती नीलिमा खेतान, डिप्टी हेड-एच.आर-सुश्री जयता राॅय, हेड-ईओएचएस, श्री वी.पी. जोशी एवं कंपनी के वरिष्ठ अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित रहे.

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*