अमेरिका ने भारत से हाइड्रॉक्सी क्लोरोक्वीन की 2.9 करोड़ खुराक खरीदी: ट्रंप


वाशिंगटन . अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि अमेरिका ने कोरोना (Corona virus) महामारी से लड़ने के लिए हाइड्रॉक्सी क्लोरोक्वीन की 2.9 खुराक खरीदी हैं, जिसमें भारत की बहुत बड़ी हिस्सेदारी है. इसके साथ ही ट्रंप ने कहा कि जब उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मलेरिया रोधी दवा की बिक्री की इजाजत देने के लिए मदद मांगी तो उनकी प्रतिक्रिया बहुत अच्छी थी.

ट्रंप और प्रधानमंत्री मोदी ने पिछले हफ्ते फोन पर बात की थी, जिस दौरान ट्रंप ने मोदी से हाइड्रॉक्सी क्लोरोक्वीन के अमेरिकी ऑर्डर पर रोक हटाने का अनुरोध किया था, जिसका भारत प्रमुख निर्माता है. अमेरिकी खाद्य एवं दवा प्रशासन ने कोविड-19 (Kovid-19) के उपचार के लिए संभावित दवा के रूप में हाइड्रॉक्सी क्लोरोक्वीन की पहचान की है और न्यूयार्क में 1,500 से अधिक कोरोना (Corona virus) संक्रमण के मरीजों पर इसका परीक्षण किया जा रहा है. ट्रंप ने यह अनुमान लगाते हुए कि इस परीक्षण का सकारात्मक परिणाम होगा. हाइड्राक्सी क्लोरोक्वीन की 2.9 करोड़ से अधिक खुराक खरीदी हैं.

  विधानसभा चुनाव डिजिटल तरीके से करने की तैयारी?

ट्रंप ने बताया‎ ‎कि मैंने करोड़ों खुराकें खरीदी हैं. मैंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बात की, इनमें से ज्यादातर भारत से आई हैं. मैंने उनसे कहा कि क्या आप इसे आने देंगे? वह बहुत अच्छे हैं. ट्रंप ने हाइड्रॉक्सी क्लोरोक्वीन के इस्तेमाल के बारे में पूछे गए एक सवाल के जवाब में कहा ‎कि क्या आप जानते हैं कि उन्होंने इस पर रोक लगाई क्योंकि वे इसे भारत के लिए चाहते थे.

  कर्नाटक में कोरोना वायरस संक्रमण के 196 नए मामले

भारत ने अमेरिका को हाइड्रॉक्सी क्लोरोक्वीन के निर्यात की इजाजत दे दी थी. अमेरिका में कोरोना (Corona virus) महामारी विकराल रूप ले चुकी है और मंगलवार (Tuesday) रात तक यहां करीब चार लाख लोग इससे संक्रमित थे और 12,850 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है. इससे पहले ट्रंप ने मंगलवार (Tuesday) को चेतावनी दी थी कि अगर भारत उनके निजी अनुरोध के बावजूद मलेरिया रोधी दवा हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन के निर्यात की अनुमति नहीं देगा तो उसके खिलाफ जवाबी कार्रवाई की जा सकती है.

  बच्चों के मानसिक स्वास्थ्य पर भी ध्यान दें

Check Also

चीन ने भारत से अपने नागरिकों को वापस बुलाया

नई दिल्‍ली . चीन ने छात्रों, पर्यटकों और उद्योगपतियों सहित सभी नागरिकों को भारत से …