आईएनएस तीर पर सवार एनसीसी कैडेट्स समुद्रपारीय तैनाती से लौटे


नई दिल्ली (New Delhi). एनसीसी के नौसेना विंग के देश के कोने-कोने से आए 14 कैडेट्स के साथदक्षिणी नौसेना कमान (एसएनसी) के अंतर्गत भारतीय नौसेना का कैडेट प्रशिक्षण पोत आईएनएस तीर ‘प्रथम प्रशिक्षण स्‍क्‍वाड्रन’की समुद्रपारीयतैनाती पूरी करके कोच्चि लौट आया है. एनसीसी कैडेट 29 फरवरी 2020 को आईएनएस तीर पर सवार हुए थे और उन्‍हें एक संरचित प्रशिक्षण कार्यक्रम के माध्‍यम से भारतीय नौसेना की भूमिका पर विशेष बल देते हुए समुद्र में जीवन के विभिन्‍न पहलुओं से रुबरु कराया गया.

  दिल्ली में हल्का भूकंप, जान माल का नुकसान नहीं

कैडेट्स ने पोत की सभी गतिविधियों में उत्साहपूर्वक भाग लिया. पोत के सामुदायिक आउटरीच कार्यक्रम के दौरानमॉरीशस के पोर्ट लुई के एक वृद्धाश्रम में एनसीसी कैडेट्स ने अपने आनंदपूर्ण उत्साह और देखभाल सेवहां बाशिंदों का दिल जीत लिया. कोविड-19 (Kovid-19) की स्थितिके कारण सम्‍पर्क को सीमित रखा गया. कैडेट्स को भारतीय नौसेना अधिकारियों के साथ ही साथ पोत पर सवारविदेशियों और मालदीव, सेशेल्स, बांग्लादेश, श्रीलंका तथा म्यांमार के प्रशिक्षुओं के साथ नियमित संवाद करके भी अपार लाभ हासिल हुआ.

  सियासी घमासान के बीच नीतीश ने की कोरोना की समीक्षा

आईटीएस पोतों की समुद्रपारीय तैनाती कोविड-19 (Kovid-19) महामारी के कारण संक्षिप्‍त कर दी गई और पोत समुद्र में 14 दिन की क्‍वारंटीन अवधि पूरी करने के प‍श्‍चात 04 अप्रैल 2020 को बंदरगाह लौट आया. पोतों पर सवार रहने के दौरान सामाजिक दूरी की अव्‍यवहारिकता के कारण पूरे पोत और उसके कर्मियों साथी समझा गया और सभी को क्‍वारंटीन किया गया. पोतों के चालक दल और एनसीसी कैडेट्स इस समय ऐहतियात के तौर पर किए गए उपायों के तहत 14 दिन की क्‍वारंटीन अवधि गुजार रहे हैं.

  बाबरी विध्वंस प्रकरण-अब अभियुक्तों के बयान चार जून को होंगे दर्ज

Check Also

सबसे गर्म साल हो सकता है 2020, वैज्ञानिकों ने दी चेतावनी

नई दिल्ली (New Delhi). वैज्ञानिकों के एक अंतरराष्ट्रीय समूह ने चेतावनी दी है कि जलवायु …