आईएमएम की नौकरी छोड़ हार्वर्ड विश्वविद्यालय में लौटेगी मुख्य अर्थशास्त्री गीता गोपीनाथ

हार्वर्ड . वैश्विक वित्तीय संस्थान के अनुसार,आईएमएफ की मुख्य अर्थशास्त्री गीता गोपीनाथ अगले साल जनवरी में अपनी नौकरी छोड़कर प्रतिष्ठित हार्वर्ड विश्वविद्यालय में लौट आएंगी. 49 वर्षीय प्रमुख भारतीय-अमेरिकी अर्थशास्त्री जनवरी 2019 में मुख्य अर्थशास्त्री के रूप में अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) में शामिल हुई थी. आईएमएफ की प्रबंध निदेशक क्रिस्टालिना जॉर्जीवा ने घोषणा की कि गोपीनाथ के उत्तराधिकारी की तलाश जल्द ही शुरू होगी. जॉर्जीवा ने कहा, आईएमएफ और हमारी सदस्यता में गीता का योगदान काफी उल्लेखनीय रहा. मैसूर में जन्मी गोपीनाथ आईएमएफ की पहली महिला मुख्य अर्थशास्त्री हैं. हार्वर्ड विश्वविद्यालय ने उनकी छुट्टी को एक साल के लिए ओर बढ़ा दिया था. इस दौरान गोपीनाथ आईएमएफ में मुख्य अर्थशास्त्री के रूप में सेवा देती रहेंगी.

जॉर्जीवा ने कहा कि उन्होंने फंड विभाग की पहली महिला मुख्य अर्थशास्त्री के रूप में इतिहास बनाया और हमें उनकी तेज बुद्धि और अंतरराष्ट्रीय वित्त और मैक्रो इकॉनॉमिक्स के गहन ज्ञान से बहुत लाभ हुआ, क्योंकि हम महामंदी के बाद से सबसे खराब आर्थिक संकट से गुजरते हैं. अब तीन साल की ड्यूटी करने के बाद अर्थशास्त्री गीता गोपीनाथ अगले साल जनवरी में अपनी नौकरी छोड़कर प्रतिष्ठित हार्वर्ड यूनिवर्सिटी में लौट जाएंगी. गीता गोपीनाथ (जन्म 8 दिसंबर 1971) 2019 से अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष की मुख्य अर्थशास्त्री हैं. उस भूमिका में वह आईएमएफ के अनुसंधान विभाग की निदेशक और फंड की आर्थिक सलाहकार हैं.

वह हार्वर्ड विश्वविद्यालय के अर्थशास्त्र विभाग से सार्वजनिक सेवा की छुट्टी पर हैं,जहां वह अंतर्राष्ट्रीय अध्ययन और अर्थशास्त्र के जॉन ज्वानस्ट्रा प्रोफेसर हैं. वह राष्ट्रीय आर्थिक अनुसंधान ब्यूरो में अंतर्राष्ट्रीय वित्त और मैक्रोइकॉनॉमिक्स कार्यक्रम की सह-निदेशक भी हैं और उन्होंने केरल (Kerala) के मुख्यमंत्री (Chief Minister) के आर्थिक सलाहकार के रूप में काम किया है. गोपीनाथ को अक्टूबर 2018 में अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष के मुख्य अर्थशास्त्री के रूप में नियुक्त किया गया था.

गीता गोपीनाथ का जन्म 8 दिसंबर 1971 को भारत के कलकत्ता में एक मलयाली परिवार में हुआ था. उनके परिवार का संबंध दिवंगत ए के गोपालन से है. गोपीनाथ ने मैसूर के निर्मला कॉन्वेंट स्कूल में पढ़ाई की. उन्होंने बी.ए. 1992 में दिल्ली विश्वविद्यालय के लेडी श्रीराम कॉलेज फॉर विमेन से डिग्री और 1994 में दिल्ली विश्वविद्यालय के दिल्ली स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स से अर्थशास्त्र में एमए की डिग्री. उन्होंने आगे 1996 में वाशिंगटन विश्वविद्यालय में एमए की डिग्री पूरी की. उसने अपनी पीएच.डी. बेन बर्नानके और केनेथ रोगॉफ की देखरेख में “तीन निबंधों पर अंतरराष्ट्रीय पूंजी प्रवाह: एक खोज सैद्धांतिक दृष्टिकोण” नामक डॉक्टरेट शोध प्रबंध पूरा करने के बाद 2001 में प्रिंसटन विश्वविद्यालय से अर्थशास्त्र में. प्रिंसटन में डॉक्टरेट अनुसंधान करते हुए उन्हें प्रिंसटन के वुडरो विल्सन फैलोशिप रिसर्च अवार्ड से सम्मानित किया गया था.

न्‍यूज अच्‍छी लगी हो तो कृपया शेयर जरूर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *