आतंकवाद के चलते पाकिस्तान के साथ संबंध सामान्य करना भारत के लिए बहुत मुश्किल : जयशंकर


न्यूयॉर्क. विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा है कि आतंकवाद के चलते पाकिस्तान के साथ संबंध सामान्य करना भारत के लिए बहुत मुश्किल है.
एशिया सोसायटी द्वारा आयोजित एक ऑनलाइन समारोह को संबोधित करते हुए जयशंकर ने कहा, ‘‘पाकिस्तान की ओर से आतंकवाद उनकी सरकार (Government) द्वारा सार्वजनिक रूप से स्वीकार की गई ऐसी नीति बना हुआ है जिसे वह जायज ठहरा रहे हैं. इसलिए उनके साथ रिश्ते सामान्य करना बहुत मुश्किल हो गया है.’’

जयशंकर ने कहा कि केवल आतंकवाद ही नहीं है, बल्कि पाकिस्तान भारत के साथ सामान्य कारोबार नहीं करता और उसने नई दिल्ली (New Delhi) को मोस्ट फेवर्ड नेशन (एमएफएन) का दर्जा नहीं दिया है. उन्होंने कहा, ‘‘हमारे सामान्य वीजा संबंध नहीं हैं और वे इस मामले में बहुत प्रतिबंधात्मक हैं. उन्होंने भारत और अफगानिस्तान के बीच तथा अफगानिस्तान से भारत तक कनेक्टिविटी बाधित की है.’’ जयशंकर ने कहा कि सामान्य पड़ोसी वीजा और कारोबारी संबंध रखते हैं, वे आपको कनेक्टिविटी प्रदान करते हैं और सबसे महत्वपूर्ण बात कि वे आतंकवाद को बढ़ावा नहीं देते.

  गुजरात के उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल पर चप्पल फैंकने के मामले में कांग्रेस कार्यकर्ता गिरफ्तार

उन्होंने कहा, ‘‘और मेरा मानना है कि जब तक हम इस समस्या पर ध्यान नहीं देते, तो इस बहुत विचित्र पड़ोसी के साथ सामान्य संबंध कैसे रखे जाएं, यह हमारी विदेश नीति के लिए बहुत बड़ी समस्या वाला विषय है.’’

पिछले साल विभाजन के बाद से कश्मीर के घटनाक्रम के सवाल पर जयशंकर ने कहा कि पूर्ववर्ती जम्मू कश्मीर राज्य अब दो केंद्रशासित प्रदेशों में बंट गया है. उन्होंने कहा, ‘‘भारत की बाहरी सीमाएं नहीं बदली हैं. जहां तक हमारे पड़ोसी देशों की बात है, तो उनके लिए हमारा कहना है कि यह हमारे लिए आंतरिक विषय है. हर देश अपने प्रशासनिक न्यायक्षेत्र को बदलने के अधिकार रखता है. चीन जैसे देश ने भी अपने प्रांतों की सीमाएं बदली हैं और मुझे विश्वास है कि अन्य कई देश ऐसा करते हैं.’’ उन्होंने कहा, ‘‘पड़ोसी तभी प्रभावित होते हैं जब आपकी बाहरी सीमाएं बदलती हैं. इस मामले में ऐसा नहीं है.’’

  डीयू के कुलपति त्यागी जांच होने तक निलंबित

Check Also

थर-थर कांप रहे थे जनरल बाजवा के पैर

अयाज सादिक के बयान पर पाकिस्तान में जमकर हंगामा नई दिल्‍ली . पाकिस्तान में पीएमएल-एन …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *