आधार कार्ड वेरीफिकेशन के नाम पर झांसा

बिलासपुर (Bilaspur) . छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के बिलासपुर (Bilaspur) में ऑनलाइन ठगी का खेल थमने का नाम नहीं ले रहा है. अब एक बुजुर्ग से मोबाइल नंबर के लिए आधार कार्ड वेरीफिकेशन के नाम पर एक लाख रुपए ठग लिए. शातिर ठगों ने ऑनलाइन वेरीफिकेशन की बात कही. उनके बताए अनुसार, बुजुर्ग ने प्रोसेस किया और खाते से दो बार में रकम कट गई. इसके बाद बुजुर्ग थाने पहुंचे और स्नढ्ढक्र दर्ज कराई. मामला कोनी थाना क्षेत्र का है.

  कोरोना मरीज की मौत की पांच दिनों तक इत्तिला नहीं देना और शव को सड़ी-गली दशा में रखना अमानवीयता की पराकाष्ठा

जानकारी के मुताबिक, रिवर व्यू कॉलोनी निवासी शशिकांत चतुर्वेदी (62) के मोबाइल नंबर पर क्चस्हृरु के ग्राहक सेवा केंद्र से 24 फरवरी को आधार कार्ड लिंक नहीं होने के चलते नंबर बंद करने का मैसेज आया. इस पर उन्होंने नंबर पर कॉल किया, लेकिन नहीं लगा. इसके बाद अगले दिन उसी नंबर से कॉल आया. ठगों ने उनके बताए अनुसार ऑनलाइन वेरीफिकेशन की बात कही. उनकी बातों में आकर बुजुर्ग ने वैसा ही प्रोसेस किया.

  कोरोना मरीज की मौत की पांच दिनों तक इत्तिला नहीं देना और शव को सड़ी-गली दशा में रखना अमानवीयता की पराकाष्ठा

शातिर ठगों ने रुपए लौटाने का झांसा देकर फिर प्रोसेस करने को कहा

प्रोसेस पूरा होते ही उनके बैंक (Bank) खाते से दो बार में 97 हजार और 2797 रुपए काट लिए गए. खाते से रुपए कटते ही बुजुर्ग परेशान हो गए और बैंक (Bank) जाकर लॉक करा दिया. इसके बाद बुजुर्ग के पास फिर ठगों ने कॉल किया और गलती से रुपए कटने की बात कही. साथ ही फिर झांसा दिया कि उनके बताए अनुसार करें तो रुपए वापस आ जाएंगे, लेकिन बुजुर्ग को डर था कि बात मानी तो शेष राशि भी खाते से निकल जाएगी. ऐसे में उन्होंने मना कर दिया.

Rajasthan news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *