आरसीएफ देश में मेथनॉल उत्पादकों की चयन सूची में शामिल


नई दिल्ली (New Delhi). राष्ट्रीय केमिकल्‍स एंड फर्टिलाइजर्स लिमिटेड (आरसीएफ) रसायन और उर्वरक मंत्रालय के अधीन एक सार्वजनिक क्षेत्र उपक्रम है, जिसने 8 सितम्‍बर, 2020 से ट्रॉम्बे यूनिट, मुम्‍बई स्थित अपना मेथनॉल संयंत्र शुरू कर दिया है. यह आत्मनिर्भर भारत अभियान की दिशा में बढ़ाया गया कदम है. आरसीएफ की प्रतिदिन 242 मीट्रिक टन मेथनॉल का उत्पादन करने की क्षमता है. अभी तक आरसीएफ अपनी आंतरिक खपत और व्यापारिक उद्देश्यों के लिए मेथनॉल का आयात करता रहा है.

  सतना की घटना की न्यायिक जांच के आदेश

अपने स्वयं के मेथनॉल उत्पादन से आरसीएफ अब अपनी खपत के लिए आयात पर निर्भर नहीं रहेगा बल्कि यह अन्य मेथनॉल आधारित उद्योगों की जरूरतों को पूरा करने की स्थिति में भी होगा. इस संयंत्र के शुरू होने से आरसीएफ ने देश में मेथनॉल उत्पादकों की चयन सूची में प्रवेश किया है, जिससे आयात का विकल्प उपलब्‍ध हुआ है. इस प्रकार यह भारत सरकार (Government) के महत्वाकांक्षी ‘आत्‍मनिर्भर भारत’ अभियान में योगदान दे रहा है. मेथनॉल फार्मास्यूटिकल्स, कीटनाशक, डाइस्टफ आदि के उत्पादन में व्‍यापक रूप से उपयोग किया जा रहा है. देश में उत्‍पादन सीमित होने से मेथनॉल की जरूरत को अभी तक आयात से पूरा कि‍या जा रहा था.

  आपचंद के जंगल में महिला सेेे गैंग रेप

उर्वरकों के क्षेत्र में आत्मनिर्भरता को सहयोग करने के प्रयास में आरसीएफ ने अपने लोकप्रिय उर्वरक सुफला के 15:15:15 प्रतिशत उत्‍पादन में जबरदस्‍त वृद्धि की है. अब उत्‍पादन 1500 मीट्रिक टन प्रतिदिन से बढ़कर 2200 मीट्रिक टन प्रतिदिन हो गया है. इसके परिणामस्वरूप सुफला के उत्‍पादन में अगस्त 2019 की तुलना में अगस्त 2020 के महीने में 17.3 प्रतिशत की बढ़ोतरी दर्ज हुई है. कोविड-19 (Covid-19) महामारी (Epidemic) की मौजूदा अवधि के दौरान उत्पादन और आपूर्ति श्रृंखला प्रबंधन सहित दिन-प्रतिदिन के कार्यों में अनेक प्रकार की बाधाओं का सामना करने बावजूद आरसीएफ अगस्त 2019 की तुलना में अगस्‍त 2020 के दौरान अपनी उर्वरक बिक्री में भी 10.81 प्रतिशत की बढ़ोतरी अर्जित करने में सफल रहा है.

  उमा भारती कोरोना वायरस से संक्रमित हुईं

Check Also

प्रो. रेणु जैन देवी अहिल्या विश्वविद्यालय की कुलपति

आप यहां हैं :Home » प्रो. रेणु जैन देवी अहिल्या विश्वविद्यालय की कुलपति भोपाल . …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *