एडिशनल एसपी द्वारा कांस्‍टेबल को फोन पर धमकाने और गाली-गलौज  करने का ऑडियो वायरल

उदयपुर (Udaipur). उदयपुर (Udaipur) पुलिस (Police) एक बार फिर सुर्खियों में है. इस बार उदयपुर (Udaipur) के एडिशनल एसपी मुकेश सांखला द्वारा अपने मातहत कांस्‍टेबल को फोन पर धमकाने और गाली गलौज  करने का एक ऑडियो वायरल होने के बाद है. यह वायरल ऑडियो उदयपुर (Udaipur) किरण को प्राप्‍त हुआ है हालांकि उदयपुर (Udaipur) किरण इस ऑडियो की सत्यता को लेकर किसी भी प्रकार का दावा नहीं करता है.

सूत्रों के अनुसार उदयपुर (Udaipur) जिले के वल्लभनगर थाने में प्रकरण संख्या 69/19 के एनडीपीएस मामले में तेजाराम को फंसाने के लिए किस तरह एक एडिशनल एसपी मुकेश सांखला कांस्टेबल बाबुलाल जाट को अपने साथ मिलने का लालच दे रहे नहीं तो गेहूं संग धुन की तरह पिसने का डर बता रहा है. तेजाराम को छोड़ने का कारण नहीं बताने पर और लाईन में पड़े रहने के लिए के साथ ही मां बहन की भद्दी गालिया भी निकाल रहे है.

  पंचायत चुनाव के लिए आरओ-एआरओ नियुक्त

सूत्रों के अनुसार पुलिस (Police) के कांस्‍टेबल के साथ अधिकारियों के व्यवहार को लेकर पहले भी बहुत से ओडियो वायरल हुए है, लेकिन यह ऑडिया राजस्थान (Rajasthan) पुलिस (Police) को शर्मशार करने है. इस ऑडियो में किसी निरपराध को अपराधी बनाने के लिए पुलिस (Police) अधिकारी किस हद तक अपने कांस्‍टेबलों पर दबाव बनाते है और मनमानी करते है  जाहिर हो रहा है. इस ऑडियो से यह भी पता चल रहा है कि पुलिस (Police) अधिकारी किस तरह से संगठित होकर किसी निरपराध को अपराधी साबित कर सकते है, जिसको साईकिल तक चलाना नहीं आता है वह स्कॉर्पियो का ड्राईवर बना दिया जाता है.

  सुरक्षा गार्ड एवं सुरक्षा सुपरवाईजर की भर्ती चयन परीक्षा

आखिर गेहूं संग धुन पिस ही दी

इन कांस्टेबलों का उत्पीड़न यही नहीं रूकता है, सबसे पहले इनको उदयपुर (Udaipur) लाईन में लगाने के बाद कांस्टेबल बाबुलाल जाट, भंवरलाल, अर्जुनसिंह को डूंगरपुर, प्रतापगढ़ और बांसवाड़ा भेज कर उदयपुर (Udaipur) आईजी ऑफिस द्वारा जिला बदर करने सजा तक दी जाती है. पुलिस (Police) में कांस्टेबल जैसे छोटे कर्मचारियों को अपने अधिकारियों की हां में हां नहीं मिलाने की सजा दी जाती है. यह ऑडियो एक निर्दोष को फंसाने की साजिश में कांस्टेबलों का उत्पीड़न किए जाने और गाली गलौज करने का नमुना मात्र है. कुछ समय पहले ऐसा ही प्रकरण पाली जिले एडिशनल एसपी रामेश्वर लाल द्वारा कांस्‍टेबल के साथ भी गाली ग्लोज करने  पर एपीओ किए गए थे.

  अब घर बैठे मिलेगी UIT की 5 सेवाएं, उदयपुर कलक्टर करेंगे ऐतिहासिक पहल का शुभारंभ

इधर CID ने तलब की अनुसंधान रिपोर्ट

उल्‍लेखनीय है कि इसी मामले में वल्लभनगर थाने में श्रमिक को आरोपी बनाने के मामले में वल्लभनगर थाना पुलिस (Police) की ओर से अफीम डोडा-चूरा तस्करी मामले में एक श्रमिक को बेवजह घसीटकर आरोपी बनाने का मामला मुख्यमंत्री (Chief Minister) तक पहुंच गया है. मुख्यमंत्री (Chief Minister) से मिले निर्देशों के बाद सीआईडी ने उदयपुर (Udaipur) एसपी को पत्र लिखकर मामले के अनुसंधान से जुड़ी फाइल तलब की.

 

Check Also

पंचायत चुनाव के लिए आरओ-एआरओ नियुक्त

उदयपुर (Udaipur). जिला निर्वाचन अधिकारी (कलक्टर) चेतन देवड़ा ने एक आदेश जारी कर जिले में …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *