कभी मूसा और बुरहान जैसे हिज्बुल कमांडरों का गढ़ माना जाता था त्राल, आज वहां एक भी आतंकी नहीं

श्रीनगर (Srinagar). 90 के दशक से ही पुलवामा के जिस त्राल को हिज्बुल मुजाहिदीन के आतंकियों का सबसे बड़ा गढ़ माना जाता था, आज उस इलाके को सुरक्षाबलों ने पूरी तरह आतंक से मुक्त कर दिया है. पुलवामा के इस इलाके में बीते कुछ सालों में चलाए गए तमाम ऑपरेशंसनों में सेना ने कई टॉप कमांडरों खात्मा करते हुए इसे आतंक मुक्त कर दिया है.

  रीवा परियोजना पूरे क्षेत्र को स्‍वच्‍छ ऊर्जा के बड़े केन्‍द्र के रूप में बदल देगी: पीएम मोदी

श्रीनगर (Srinagar) से लगभग 45 किलोमीटर दूर स्थित त्राल में इस समय कोई आतंकी सक्रिय नहीं है. यह दावा जम्मू-कश्मीर पुलिस (Police) के आईजी विजय कुमार ने किया है. पुलवामा के इस इलाके में हिज्बुल के पूर्व कमांडर बुरहान वानी, जाकिर मूसा और कई मोस्ट वांटेड आतंकियों के घर हैं. सन 2016 के जुलाई माह में सेना ने बुरहान बानी को मार गिराया था. जाकिर मूसा जैसे आतंकियों का भारतीय सुरक्षा बलों ने इसी साल अंत कर दिया गया.

  प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के संबंध में निर्देश जारी

1989 में घाटी में आतंकवाद फैलने के बाद ऐसा पहली बार हुआ है जब त्राल में कोई आतंकी मौजूद नहीं है. हिज्बुल के गढ़ क्षेत्र कहे जाने वाले इस इलाके के जंगली हिस्से में लगातार कई अभियानों को अंजाम दिया गया है. हर साल त्राल और अवंतिपोरा के इसी मार्ग से अमरनाथ यात्री गुजरते हैं. ऐसे में इस इलाके को सुरक्षा की दृष्टि से काफी संवेदनशील कहा जाता है. इस इलाके को आतंक मुक्त करने से पहले सुरक्षाबलों ने यहां पर कई एंटी टेररिस्ट ऑपरेशन चलाए हैं. मुठभेड़ों के दौरान कई बार यहां हिंसक प्रदर्शन भी हो चुके हैं. इसके अलावा त्राल में सुरक्षाबलों के काफिले पर कई बार आतंकी हमले भी हो चुके हैं.

  अब गांवों में विलेज गॉर्ड संभालेंगे सुरक्षा का जिम्मा

Check Also

हैदराबाद में ऑक्सीजन सिलेंडर ब्लैक करने वाला गिरफ्तार, जमाखोर के घर से 24 ऑक्सीजन सिलेंडर बरामद

हैदराबाद देश के लोग और सरकार (Government) कोरोना से जूझ रहे हैं वहीं कई लोग …