ग्रेच्युटी लेने के लिए 5 साल की लिमिट खत्म

नई दिल्‍ली . केंद्र सरकार के नए श्रम विधेयक को सदन की मंजूरी मिल गई है. इसके बाद अब ग्रेच्युटी लेने के लिए 5 साल की लिमिट खत्म हो गई है. दूसरे शब्‍दों में अब कंपनी हर साल ग्रेच्युटी देगी. अभी तक जो नियम था उसके मुताबिक कर्मचारी को किसी एक कंपनी में लगातार 5 साल कार्यरत रहना जरूरी था. ये नियम कॉन्ट्रैक्ट पर काम करने वाले कर्मचारियों पर भी लागू होगा.

garment-industry

ग्रेच्युटी कंपनी की तरफ से अपने कर्मचारियों को दी जाती है. इसके लिए लगातार 5 साल एक ही कंपनी में कार्यरत होना जरूरी होता है. हालांकि मृत्यु या अक्षम हो जाने पर ग्रेच्युटी अमाउंट दिए जाने के लिए नौकरी के 5 साल पूरे होना जरूरी नहीं है. ग्रेच्युटी की अधिकतम सीमा 20 लाख रुपये होती है.

  ऑनलाइन देना होगी बोर्ड परीक्षाओं के नामांकन की जानकारी

कुल ग्रेच्युटी की रकम = (अंतिम सैलरी) x (15/26) x (कंपनी में कितने साल काम किया).

मान लीजिए कि कुंदन ने 7 साल एक ही कंपनी में काम किया. कुंदन की अंतिम सैलरी 35000 रुपये (बेसिक सैलरी और महंगाई भत्ता मिलाकर) है. तो कैलकुलेशन कुछ इस प्रकार होगा— (35000) x (15/26) x (7)= 1,41,346 रुपये. मतलब ये कि कुंदन को 1,41,346 रुपये का भुगतान कर दिया जाएगा.

  महानंदा एक्सप्रेस में छात्रा से छेड़खानी, आरोपी के पास मिले 58 लाख रुपये, गिरफ्तार

Check Also

कमल नाथ ने की गद्दारी: ज्योतिरादित्य सिंधिया

नई दिल्‍ली . मध्य प्रदेश के दिग्गज नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा है कि भारतीय …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *