जिन देशों में हाथ नहीं धोते वे कोरोना के निशाने पर, ब्रिटेन में हुए एक नए अध्ययन में किया दावा


लंदन . जिन देशों में लोगों को हाथ धोने की आदत नहीं होती है, वे खुद ही कोरोना (Corona virus) के संपर्क में आ जाते हैं. बर्मिंघम विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने पाया है कि टॉइलट करने के बाद चीन (77 फीसदी), जापान (70 फीसदी), दक्षिण कोरिया (61 फीसदी) और नीदरलैंड (50 फीसदी) में बड़ी संख्या में लोगों को हाथ धोने की आदत नहीं है. इस लिस्ट में भारत 40 फीसदी के साथ 10वें स्थान पर है. इस लिस्ट में पहले 10 स्थानों पर थाईलैंड (48 फीसदी), केन्या (48 फीसदी), इटली (43 फीसदी), मलेशिया (43 फीसदी) और हॉन्ग-कॉन्ग (40 फीसदी) शामिल हैं.

  खाना लेने के लिए आधा किलोमीटर की लाइन लगी, कई मीलों का सफर करने के बाद मिला खाना

ब्रिटेन में यह आदत 25 फीसदी और अमेरिका में 23 फीसदी है. हाथ धोने की सबसे अच्छी संस्कृति सऊदी अरब में देखी जाती है, जहां केवल 3फीसदी लोग आदतन अपने हाथ नहीं धोते हैं. बर्मिंघम बिजनस स्कूल के प्रोफेसर गना पोगरेबना ने कहा, ‘जिन देशों में लोगों को हाथ धोने की आदत नहीं है, उन लोगों को कोरोना (Corona virus) से संक्रमित होने का अधिक खतरा है.’

  कोरोनावायरस के कारण 20 फीसदी गैर वित्तीय कंपनियों का जोखिम बढ़ा : मूडीज

उन्होंने कहा, ‘इस बीमारी का इलाज या टीका नहीं होने के कारण मौजूदा महामारी इस संक्रमण का संभावित खतरा कम करने के उपायों को खोजने के लिए बाध्य करती है.’ पोगरेबना ने कहा, ‘कोरोना (Corona virus) से बचने के लिए कम से कम 20 सेकंड तक बार-बार साबुन से हाथ धोने की सलाह दी जा रही है. कुछ समय के लिए व्यक्तिगत स्वच्छता व्यवहार को जल्दी से बदलना संभव है, लेकिन किसी विशेष देश में या दुनियाभर में हाथ धोने की संस्कृति को बदलना बहुत अधिक कठिन काम है.’

  पहली बार मोदी केंद्रीय कैबिनेट की बैठक वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से होगी

Check Also

पैट कमिंस को अभी भी आईपीएल 2020 के होने की उम्मीद

सिडनी . इंडियन प्रीमयर लीग (आईपीएल) के सबसे महंगे खिलाड़ियों में से एक ऑस्ट्रेलिया के …