डोनाल्ड ट्रंप चुनाव में होंगे पराजित युवाओं और बुजुर्गों में बड़बोले ट्रंप के खिलाफ भारी नाराजगी

न्यूयॉर्क. अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव में आमतौर पर रिपब्लिकन उम्मीदवार को बुजुर्गों के वोट सबसे ज्यादा मिलते हैं. 2016 के राष्ट्रपति चुनाव में ट्रंप को डेमोक्रेटिक प्रत्याशी हिलेरी क्लिंटन के मुकाबले बुजुर्गों के वोट 7 फ़ीसदी ज्यादा मिले थे. ट्रंप को श्वेत बुजुर्गों के भी 3 फ़ीसदी ज्यादा वोट हासिल हुए थे.

न्यूयॉर्क टाइम्स और सिएना कॉलेज के नए सर्वे में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पिछड़ गए हैं. बुजुर्ग मतदाता भी उन्हें पसंद नहीं कर रहे हैं. नए सर्वे में राष्ट्रपति ट्रंप डेमोक्रेटिक उम्मीदवार वाइडेन की बराबरी पर आ गए हैं. इससे अब चुनाव का परिणाम स्पष्ट नजर आने लगा है.
पूर्व उपराष्ट्रपति बाइडेन के लिए राष्ट्रपति के चुनाव में काफी लाभ होता दिख रहा है. वही राष्ट्रपति ट्रंप के बड़बोले पन और गलत नीतियों के कारण अमेरिका में उनके खिलाफ युवाओं और बुजुर्गों में नाराजगी बढ़ गई है. राष्ट्रपति ट्रंप अमेरिका की गरिमा बनाए रखने में विफल माने गए हैं. अधिकतर बुजुर्गों ने सर्वे में रंगभेद के मामले में राष्ट्रपति ट्रंप की नीतियों की आलोचना की है.

  मोदी कैबिनेट ने योजनाओं से जुड़ी सुविधा की अवधि बढ़ाने को दी मंजूरी

कोरोनावायरस महामारी (Epidemic) से निपटने के लिए भी ट्रंप की कार्यशैली से बुजुर्ग नागरिक काफी नाराज हैं. महामारी (Epidemic) के समय पर उनके द्वारा जिस तरह की सार्वजनिक टिप्पणियां की गई. कोरोना संक्रमण को लेकर जिस तरीके से उन्होंने उपेक्षा बरती उसका असर सर्वे में स्पष्ट रूप में नजर आया है. महत्वपूर्ण राज्यों में बाइडेन को ट्रंप पर गैर अश्वेत वोटरों के बीच 65 फीसदी के मुकाबले 25 फ़ीसदी की बढ़त हासिल है.

  आखिर WHO ने माना हवा से भी फैल सकता है कोरोना वायरस

Check Also

रीवा में एशिया का सबसे बड़ा सौर प्लांट शुरू

आप यहां हैं :Home » रीवा में एशिया का सबसे बड़ा सौर प्लांट शुरू प्रधानमंत्री …