‘तो फिर मैच हो जाए कबीर और मिकाइल के बीच, कैफ के ट्वीट पर शोएब का मजेदार जवाब

नई दिल्ली (New Delhi) . साल 2003 में वर्ल्ड कप के दौरान पाकिस्तानी गेंदबाज शोएब अख्तर अपने करियर के चरम पर थे. भारतीय टीम ने सेंचुरियन में पाकिस्तान को हराकर हालांकि विश्व कप में पाक टीम के खिलाफ अपनी जीत का सिलसिला जारी रखा था. अख्तर पर हालांकि शुरुआत में सचिन तेंडुलकर और वीरेंदर सहवाग ने करारा हमला बोला था लेकिन रावलपिंडी एक्स्प्रेस के नाम से मशहूर इस गेंदबाज ने जी-जान लगाकर बोलिंग की. इसका उन्हें फायदा भी मिला और उन्होंने सचिन तेंडुलकर को 98 के निजी स्कोर पर आउट भी किया था. हालांकि, पूर्व क्रिकेटर मोहम्मद कैफ के बेटे कबीर को लगता है कि शोएब अख्तर की गेंदबाजी को हिट करना उतना मुश्किल नहीं है जितना कि बताया जाता है. कैफ के बेटे को लगता है कि अख्तर की रफ्तार का फायदा बल्लेबाज को होता है और उसके लिए चौका लगाना आसान हो जाता है.

  कर्नाटक के भाजपा विधायकों ने की गुपचुप बैठक, मुख्यमंत्री येदियुरप्पा ने दी सफाई

मोहम्मद कैफ ने सोशल मीडिया (Media) पर एक वीडियो शेयर किया है जिसमें उन्होंने लिखा है कि क्यों उनके बेटे को लगता है कि अख्तर को हिट करना इतना मुश्किल नहीं है. कोरोना (Corona virus) के चलते इस समय सभी खेल गतिविधियां बंद हैं इसलिए टीवी पर भी पुराने मुकाबले दिखाए जा रहे हैं. कैफ और उनका बेटा टीवी पर 2003 वर्ल्ड कप में भारत और पाकिस्तान का मैच देख रहा है. कैफ ने ट्वीट किया- ‘थैंक्यू, आखिरकार कबीर को इंडिया वसेस पाक का ऐतिहासिक मुकाबला देखने को मिल गया. लेकिन जूनियर अपने पापा से ज्यादा प्रभावित नहीं है. उसे लगता है कि शोएब को हिट करना जरूर आसान होगा क्योंकि उनकी बोलिंग में रफ्तार है.

  मंदिर में मिला पुजारी और उसके बेटे का शव, खुदकुशी की आशंका

आज के बच्चे… !’ अख्तर ने इस पर मजेदार जवाब भी दिया है. उन्होंने इस ट्वीट पर रिप्लाई किया- ‘तो फिर मोहम्मद कैफ ने भारत की उस छह विकेट से जीत में अहम भूमिका मैच हो जाए कबीर और मिकाइल अली अख्तर का?’ उसे रफ्तार के बारे में जवाब मिल जाएगा. हाहा उसे मेरा प्यार देना. मिकाइल शोएब के बेटे का नाम है जिसका जन्म नवंबर 2016 में हुआ था. मोहम्मद कैफ ने भारत की उस छह विकेट से जीत में अहम भूमिका निभाई थी. वीरेंदर सहवाग (21) और सौरभ गांगुली (0) के आउट होने के बाद उन्होंने तीसरे विकेट के लिए सचिन तेंडुलकर के साथ 102 रन जोड़े थे. कैफ ने उस मैच में 60 गेंद पर 35 रन बनाए थे. कैफ और सचिन के आउट होने के बाद युवराज सिंह और राहुल द्रविड़ ने 99 रन जोड़कर भारतीय टीम को जीत दिलाई थी. बता दें ‎कि दुनियाभर के बल्लेबाजों को शोएब अख्तर का सामना करने में बहुत मुश्किल आती थी. उनकी रफ्तार का सामना करना हर किसी के बस की बात नहीं थी.

  भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा कोरोना संक्रमित, लक्षण दिखने पर अस्पताल में हुए भर्ती

Check Also

विदेशों में बस्तरिया इमली की चटकार : साधुराम दुल्हानी

जगदलपुर में एशिया की सबसे बड़ी इमली मंडी है. यहां से इमली दूसरे राज्यों में …