दिव्या काकरान की तैयारी जारी,ओलिंपिक्स क्वॉलिफाइंग टूर्नामेंट में करना है प्रतिनिधित्व

नई दिल्ली (New Delhi) . कोरोना संकट के बीच ओलिंपिक्स खेलों को एक साल के लिए टाल दिया गया है और क्वॉलिफाइंग टूर्नामेंट भी हाल-फिलहाल आयोजित होता नहीं दिख रहा है, फिर भी दिव्या अपनी तैयारी में लगी हुई हैं. दिव्या उस भारतीय टीम का हिस्सा हैं जिसे अगले ओलिंपिक्स क्वॉलिफाइंग टूर्नामेंट में देश का प्रतिनिधित्व करना है. तैयारी प्रभावित ना हो इसके लिए उन्होंने लॉकडाउन (Lockdown) शुरू होने से कुछ दिन पहले ही कोच के घर के बगल में शिफ्ट हो गईं. उन्होंने बताया, ‘तब अपने यहां कोरोना का इतना कहर नहीं था. लेकिन, मुझे पता था कि दुनिया में जहां भी यह फैला है वहां पूरे शहर को ही लॉकडाउन (Lockdown) कर दिया जाता है.

  ‘गोयल को बिना मंत्रालय का मंत्री बना दिया जाए’ गहलोत ने ट्रेनों की लेट-लतीफी पर कहा

मैं यही सोचकर देश में लॉकडाउन (Lockdown) शुरू होने से करीब चार-पांच दिन पहले अपने भाई के साथ रूसी कोच ब्लामिदिर के घर के बगल में मॉडल टाउन रहने आ गई जिससे कि प्रैक्टिस प्रभावित ना हो.’ दिव्या भले ही कोच के घर के बगल में आ गईं लेकिन मैट प्रैक्टिस बिल्कुल नहीं कर पा रही हैं. उन्होंने बताया, ‘कोच का आवास दो घर छोड़कर ही है. कभी वह मेरे घर आ जाते हैं तो कभी मैं उनके पास चली जाती हूं. उनकी देखरेख में केवल चिनअप्स, दंड और उठक-बैठक वगैरह ही कर पा रही हूं. मेरा भाई भी पहलवान है. मैं उसके साथ भी मैट प्रैक्टिस करती रही हूं. लेकिन सोशल डिस्टेंसिंग की वजह से अभी यह बंद है. मैं सबसे अपील करूंगी कि घर में ही रहें.’ बता दें कि जिन महिला पहलवानों से ओलिंपिक्स मेडल की उम्मीद है उनमें दिव्या काकरान भी शामिल हैं. दिव्या को हालांकि ओलिंपिक्स के लिए क्वॉलिफाई करना है लेकिन उन्होंने एशियन चैंपियनशिप में 68 किग्रा भार वर्ग में गोल्ड जीतकर उम्मीदें जगा दी हैं.

  कलेक्टर के निर्देश पर खाद्य सुरक्षा विभाग कर रहा है प्रतिदिन 100 से अधिक दुकानो का निरीक्षण

Check Also

इंदौर में कोरोना से मृतकों की संख्या भी 132 हुई, शनिवार को 55 नए पॉजिटिव मिले

भोपाल (Bhopal). प्रदेश के इंदौर (Indore) शहर में कोरोना पॉजिटिव तीन मरीजों की मौत की …