पूरे देश में बैन होनी चाहिए शराब की बिक्री, सुप्रीम कोर्ट में लगाई जनहित याचिका

नई दिल्ली (New Delhi). देश में शराब और बियर की बिक्री पर प्रतिबंध की मांग को लेकर सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) में जनहित याचिका दाखिल की गई है. भाजपा नेता अश्वनी उपाध्याय ने याचिका दाखिल कर कहा कि जब से शराब की बिक्री देश में शुरू हुई की गई है, तब से कोरोना के मामले में तेजी से बढ़ोतरी हुई हैं, लिहाजा शराब की बिक्री पर तत्काल रोक लगाई जाए.

  सरकार गिराने के षड़यंत्र पर भाजपा पर बिफरे सीएम गहलोत

अश्वनी उपाध्याय की ओर से दायर जनहित याचिका में यह भी मांग की गई है कि जिस तरह सिगरेट के पैकेट पर वैधानिक चेतावनी लिखी रहती है, उसी तरह से शराब के बोतल के 50 फीसदी हिस्से पर कम से कम वैधानिक चेतावनी लिखी जाए, जिसमें बताया जाए कि शराब पीने से क्या-क्या नुकसान होते हैं.

बीते दिनों सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) ने तमिलनाडु हाई कोर्ट के उस फैसले को बदल दिया है जिसमें शराब की दुकानों को बंद करने का आदेश दिया गया था. सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) ने कहा कि यह तमिलनाडु सरकार (Government) पर है कि वो कैसे शराब बेचना चाहती है. शराब बिक्री का काम जमीन पर कैसे किया जाएगा, यह कोर्ट तय नहीं करेगा. यह राज्य सरकार (Government) के अधिकार क्षेत्र में आता है.

  कलक्टर ने शहर में सेक्टर 4 में कोरोना प्रभावित क्षेत्र में लगाई निषेधाज्ञा

इससे पहले भी लॉकडाउन (Lockdown) के बीच खोली गई शराब की दुकानों को फिर से बंद कराने के लिए सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) में याचिका दाखिल की गई थी. याचिका में कहा गया था कि दुकानों में शारीरिक दूरी जैसे नियम और बाकी मानदंड़ों का पालन नहीं किया जा रहा है. इस याचिका को खारिज करते हुए सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) ने सुनवाई करने से इनकार कर दिया था.

  केंद्र शासित राज्यों में सभी ग्रामीण परिवारों को 2022 तक मिलेंगे नल कनेक्शन

Check Also

क्राइम ब्रांच ने गैंगस्टर अनवर ठाकुर को दबोचा

नई दिल्ली (New Delhi). दिल्ली पुलिस (Police) की क्राइम ब्रांच ने गैंगस्टर अनवर ठाकुर को …