पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह के निधन से खाली हुई अर्की सीट पर कांग्रेस और भाजपा के बीच कांटे की टक्कर

अर्की . हिमाचल में हो रहे उपचुनावों में भाजपा अपनी जीत को लेकर पूरी तरह आश्वस्त है. पूर्व में 6 बार मुख्यमंत्री (Chief Minister) व अर्की से विधायक वीरभद्र सिंह के निधन के बाद अर्की में उपचुनाव हो रहे हैं. ऐसे में कांग्रेस और भाजपा दोनों के लिए ही यह हॉट सीट बनी हुई है. इस सीट पर अपने प्रत्याशियों को जिताने के लिए कांग्रेस और भाजपा दोनों जमकर प्रयास कर रहे हैं.

अर्की में भाजपा प्रत्याशी रतनसिंह पाल का प्रचार कर रहे ग्रामीण विकास व पंचायतीराज मंत्री वीरेन्द्र कंवर भाजपा की जीत को लेकर निश्चिंत हैं. उनका कहना है कि पिछले 4 सालों से अर्की की जनता अपने विधायक को देखने को भी तरसती रही है ऐसे में भाजपा के मौजूदा प्रत्याशी ही सरकार के समक्ष अर्की की आवाज बनकर जनता के कार्य करवाते रहे हैं. अब जब यहां उपचुनाव होने हैं तो भाजपा को सभी का भरपूर समर्थन मिल रहा है.

दूसरी ओर कांग्रेस के मौजूदा प्रत्याशी केवल चुनावी मेंढक की तरह नजर आते रहे हैं. पिछले 4 सालों में जनता ने संजय अवस्थी का चेहरा तक नहीं देखा. उन्होंने कहा कांग्रेस ने इतने सालों तक अर्की में राज किया व वीरभद्र जैसे नेता यहां विधायक भी रहे उसके बाद भी यह क्षेत्र विकास के मामले में पिछड़ा ही रहा. प्रदेश में भाजपा की सरकार ने जो विकास किया है उसमें अब अर्की की जनता भी शामिल होना चाहती है. वीरेन्द्र कंवर पिछले 15 दिनों से लगातार जनता के बीच जाकर भाजपा द्वारा किये गए कार्यों से उन्हें अवगत करा रहे हैं व रतनसिंह पाल के लिए वोट करने की अपील कर रहे हैं.

न्‍यूज अच्‍छी लगी हो तो कृपया शेयर जरूर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *