Thursday , 25 February 2021

ब्रैनसन के स्पेसयान वर्जिन आर्बिट का सफल परीक्षण, अब अंतरिक्ष में घूमने का सपना होगा सच

नई दिल्ली (New Delhi) . 17 जनवरी रविवार (Sunday) को वर्जिन ऑर्बिट नाम के स्पेसयान का सफल परीक्षण किया गया है. अरबति रिचर्ड ब्रैनसन की कंपनी वर्जिन गैलेक्टिन के वर्जिन ऑर्बिट मिशन के तहत लॉन्चर वन को पृथ्वी की कक्षा में पहुंचाने का लक्ष्य था जो अमेरिका में कल पूरा हुआ. इस परीक्षण के सफल होने के बाद यह उम्मीद जगाई जा रही है कि भविष्य में इंसान धरती की कक्षा में घूमने जा सकेगा.

वर्जिन गैलेक्टिक ने अमेरिका के कैलिफोर्निया स्थित मोजावे एयर एंड स्पेस पोर्ट से अपना स्पेसयान लॉन्च किया है. कंपनी का मकसद है कि वह अगले कुछ सालों में लोगों को पृथ्वी की कक्षा की यात्रा कराए. इसके लिए कंपनी लगातार पिछले 4-5 सालों से प्रयास कर रही है. पिछले साल मई में इसने अपने स्पेसयान को ऑर्बिट में भेजा था लेकिन बूस्टर में दिक्कत आने की वजह से लॉन्च सफल नहीं रहा.

  कोरोना से प्राण गंवाने वाले पांच लाख अमेरिकियों की याद में व्हाइट हाउस में होगा एक मिनट का मौन

17 जनवरी को वर्जिन ऑर्बिट अंतरिक्षयान को एक कैरियर प्लेन कॉस्मिक गर्ल के नीचे लगाकर धरती से 35 हजार फीट की ऊंचाई पर ले जाया गया. इसके बाद 70 फीट लंबा वर्जिन ऑर्बिट जिसे साइंटिस्ट लॉन्चर वन कह रहे हैं वह प्लेन से अलग होकर अंतरिक्ष में पृथ्वी की कक्षा की यात्रा पर निकल गया. यह लॉन्चिंग अमेरिका के कैलिफोर्निया स्थित मोजावे एयर एंड स्पेस पोर्ट से की गई. वर्जिन ऑर्बिट पिछले साल दिसंबर में पृथ्वी की कक्षा में जाने का दूसरा प्रयास करना चाहती थी लेकिन कोरोनावायरस महामारी (Epidemic) की वजह से इसे टालना पड़ा.

  भारत ने TB को खात्में के लिए 2025 का रखा लक्ष्य, दुनिया 2030 तक समाप्त करने की कर रही बात : मोदी

वर्जिन ऑर्बिट ने अपनी तैयारियों के लिए तीन विंडो डेट तय करके रखे थे. 10 जनवरी को पहला अपडेट आया. 12 जनवरी को दूसरा अपडेट आया और 13 जनवरी को अंतिम अपडेट मिलने के बाद तय किया गया कि लॉन्च 17 जनवरी को किया जाएगा. यह अपडेट वर्जिन ऑर्बिट और उसके विमान की तकनीकी तैयारियों को लेकर थे.

  ब्रिटेन में 21 जून को ज्यादातर पाबंदियां समाप्त होने को लेकर आशान्वित हैं पीएम जॉनसन

वर्जिन ऑर्बिट ने ट्विटर हैंडल पर जानकारी दी है कि हमारी लॉन्च सफल रही है. हमारे लॉन्चर वन ने तय कक्षा में पेलोड को पहुंचा दिया है. हम चाहते हैं कि शुरुआत में कुछ सैटेलाइट्स को इससे धरती की कक्षा में स्थापित करवाएं उसके बाद इंसानों को ले जाने का प्रबंध किया जाएगा. उल्लेखनीय है कि अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी के साथ चांद और मंगल पर जाने के लिए तैयार अर्टेमिस प्रोग्राम में वर्जिन गैलेक्टिक कंपनी भी शामिल है. अरबपति रिचर्ड ब्रैसनन की कंपनी वर्जिन गैलेक्टिक अंतरिक्ष यात्रा को आम लोगों के लिए सहज बनाना चाहती है.

Please share this news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *