मास्क पर हफ्ते भर तक जिंदा रह सकता है कोरोना वायरस

बीजिंग . एक ताजा अध्ययन में कहा गया है ‎कि कोविड-19 (Kovid-19) बीमारी के लिए जिम्मेदार कोरोना (Corona virus) चेहरे पर लगाए जाने वाले मास्क पर हफ्ते भर तक और बैंकनोट, स्टील एवं प्लास्टिक की सतह पर कई दिनों तक जिंदा रहकर संक्रमण फैलाने में सक्षम होता है.. हांग कांग यूनिवर्सिटी के अनुसंधानकर्ताओं का कहना है यह वायरस घर में इस्तेमाल होने वाले कीटाणुनाशकों, ब्लीच या साबुन और पानी से बार-बार हाथ धोने से मर जाएगा. अध्ययन में पाया गया कि कोरोना (Corona virus) स्टेनलेस स्टील और प्लास्टिक की सतहों पर चार दिन तक चिपका रह सकता है और चेहरे पर लगाए जाने वाले मास्क की बाहरी सतह पर हफ्तों तक जिंदा रह सकता है. यह अध्ययन सार्स-सीओवी-2 की स्थिरता को लेकर लगातार हो रहे अनुसंधानों में और जानकारी जोड़ता है तथा बताता है कि इसको फैलने से कैसे रोका जा सकता है.

  लॉकडाउन के बाद भी प्रवासी श्रमिकों को रास आ रहा है हमारा उदयपुर, साढ़े सात हजार से अधिक जाने को तैयार नहीं

अनुसंधानकर्ताओं ने जांचने की कोशिश की कि यह वायरस सामान्य ताप पर विभिन्न सतहों पर कितनी देर संक्रामक रह सकता है. उन्होंने पाया कि प्रिंटिंग और टिशू पेपर पर यह तीन घंटे जबकि लकड़ी या कपड़े पर यह पूरा एक दिन रह सकता है. कांच और बैंकनोट पर यह वायरस चार दिन तक जबकि स्टेनलेस स्टील और प्लास्टिक पर चार से सात दिन के बीच संक्रामक रहा. हांग कांग यूनिवर्सिटी के स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ के अनुसंधानकर्ता लियो पून लितमैन और मलिक पेरीज ने कहा कि सार्स-सीओवी-2 अनुकूल वातावरण में बेहद स्थिर रह सकता है लेकिन यह रोगाणु मुक्त करने के मानक तरीकों के प्रति अतिसंवेदनशील भी है.

  लगातार दूसरे दिन बढ़त के साथ बंद हुआ शेयर बाजार

Check Also

Photo : जैन सर्जिकल अस्‍पताल को नहीं लगता कोरोना से डर, उड़ाई जा रही नियमों की धज्जियां, मरीजों ने पहना मास्‍क, स्‍टाफ को नहीं डर

उदयपुर (Udaipur). जिले के डबोक कस्‍बे में जैन सर्जिकल अस्‍पताल (पहले संजीवनी सर्जिकल हॉस्पिटल एवं …