मुंबई दिल्ली, सूरत समेत 11 शहरों से आने वाले प्रवासी अब ब्लॉक के क्वारंटाइन कैंप में रहेंगे


नई दिल्ली (New Delhi). कोरोना लॉकडाउन (Lockdown) के चलते देशभर से प्रवासी मजदूर बिहार लौट रहे हैं. इससे बिहार में कोरोना (Corona virus) का खतरा और बढ़ गया है. बिहार सरकार (Government) ने राज्य में बढ़ते कोरोना मामलों के मद्देनजर एक बड़ा फैसला लिया है. अब सूरत (Surat), अहमदाबाद (Ahmedabad), मुंबई (Mumbai), पुणे, दिल्ली, गाजियाबाद, फरीदाबाद, गुड़गांव, नोएडा (Noida), कोलकाता (Kolkata) और बेंगलूरू से बिहार आने वाले प्रवासी मजदूरों को ब्लॉक स्तर के क्वारंटाइन कैंप में रखा जाएगा.

  दिल्ली सरकार शराब की बिक्री-खरीद मौलिक अधिकार नहीं

सरकार ने पटना (Patna) सहित प्रदेश के सभी जिलों के डीएम और सिविल सर्जन को इस संबंध में निर्देश जारी कर दिया है. क्वारंटाइन कैंप को राज्यों की श्रेणी के हिसाब से तैयार करने का प्लान है. आदेश मिलने के साथ ही तैयारी की जा रही है. आंकड़ों की बात करें तो अब तक प्रदेश में ढाई लाख से अधिक लोग अन्य राज्यों से आ चुके हैं. इसमें अधिक संख्या ऐसे प्रवासियों की है जो चोरी से आए हैं.

  प्रवासी श्रमिको को लेकर अब तक यूपी पहुंची 1337 ट्रेने

सूत्रों की मानें तो कागजी आंकड़ों से भी अधिक लोग आए हैं. स्वास्थय विभाग को उम्मीद है कि करीब 27 लाख लोग और आएंगे. देश के अन्य प्रदेशों से आने वाले प्रवासियों को विलेज क्वारंटाइन सेंटर में रखा जाएगा. यहां उन्हें रखकर उनकी निगरानी कराई जाएगी. अधिकारियों का कहना है कि कम प्रभावित जिलों से आने वालों में संक्रमण का खतरा थोड़ा कम होता है. इस कारण से उन्हें यहां रखा जाएगा. सबसे खतरनाक दिल्ली, मुंबई (Mumbai) और गुजरात से आने वाले हैं. श्रेणी में बांटकर क्वॉरेंटाइन करने की तैयारी की जा रही है. इससे काफी राहत होगी, क्योंकि निगरानी आसानी से हो जाएगी.

  दिल्ली में पहली बार एक ही दिन में 1024 नए कोरोनावायरस संक्रमित मिले

Check Also

नीम के तेल का छिड़काव से पाया जा सकता है टिड्डियों पर नियंत्रण

महाराष्ट्र (Maharashtra) कृषि विवि ने प्रकोप से निपटने के तरीके सुझाए औरंगाबाद. मध्य प्रदेश, राजस्थान, …