यूनिलीवर का अव्वल ब्रांड बना Surf excel, बिक्री आंकड़ा 5 हजार करोड़ के पार


मुंबई . कपड़े धोने के साबुन बाजार में भारी स्पर्धा के बाद डिटर्जेंट ब्रैंड सर्फ एक्सेल हिंदुस्तान यूनिलीवर लिमिटेड (एचयूएल) ने बाजार में अव्वल ब्रैंड का दर्जा हासिल कर लिया है. एचयूएल ने बीते वर्ष में 5,000 करोड़ रुपये से अधिक की सालाना बिक्री दर्ज की. इसी के साथ यह हिंदुस्तान यूनिलीवर का पहला ऐसा ब्रांड बन गया, जिसने सेल्स में 5,000 करोड़ रुपये का आंकड़ा पार किया है.

एचयूएल ने डिटर्जेंट मार्केट में प्रीमियम प्रोडक्ट्स पर जोर देना शुरू किया है. नीलसन के डेटा का हवाला देते हुए इंडस्ट्री एग्जिक्यूटिव्स ने बताया कि सर्फ ने 2019 में 5,375 करोड़ रुपये की रेकॉर्ड सेल्स दर्ज की. उसका मार्केट शेयर 17.9 फीसदी रहा. एचयूएल के कुल रेवेन्यू में इसकी हिस्सेदारी करीब 14 फीसदी रही. कंपनी की लॉन्ड्री सेगमेंट सेल्स में इसका हिस्सा 45 फीसदी रहा. नीलसन ने खबर पर कमेंट करने से मना कर दिया.

  देशभर में अब तक 50 डॉक्टर और मेडिकल स्टाफ कोरोनावायरस से संक्रमित हुए

एचयूएल के लॉन्ड्री पोर्टफोलियो में व्हील ब्रांड लंबे समय से आगे रहा है. हालांकि, बीते वर्ष सर्फ ने इस सेगमेंट में अपना दबदबा बढ़ाया है. एचयूएल ने मार्केट शेयर पर टिप्पणी करने से मना कर दिया. कंपनी के एक प्रवक्ता ने बताया कि एचयूएल लिक्विड डिटर्जेंट और फैब्रिक कंडिशनर के जरिए इस सेगमेंट को प्रीमियम बनाने की लगातार कोशिश कर रही है. यह उसी का नतीजा है कि सर्फ ने मजबूत रिजल्ट दर्ज किया है. उन्होंने बताया, ‘कोर और मार्केट डिवेलपमेंट पर फोकस करने से एचयूएल की लॉन्ड्री कैटिगरी में ग्रोथ हो रही है.’

  पीएमयूवाई लाभार्थियों को मुफ्त सिलिंडरों की आपूर्ति के बारे में सैकड़ों डीएनओ के साथ किया संवाद

डिटर्जेंट कैटिगरी में सर्फ पहले मार्केट लीडर था, फिर 1985 में निरमा ने इससे बादशाहत छीन ली थी. उसके बाद एचयूएल ने सस्ते दाम वाले व्हील को मार्केट में उतारा, ताकि नए प्रतिद्वंद्वी का मुकाबला किया जा सके. व्हील ने 90 के दशक से लेकर 2012 तक मार्केट पर राज किया, लेकिन उस साल कानपुर की आरएसपीएल के घड़ी ब्रांड ने उसे पछाड़ दिया. सर्फ तेजी से घड़ी और उसके बीच का अंतर घटा रहा है. उसने बीते दो वर्षों में अपने मार्केट शेयर में 1.8 पर्सेंटेज पॉइंट की बढ़त की है. वहीं 2019 में घड़ी का शेयर 5,756 करोड़ रुपये की बिक्री के साथ 19.2 पर्सेंट पर स्थिर रहा.

  कोरोना: गूगल गलत जानकारियों से निपटने देगा 65 लाख डॉलर

आरएसपीएल के एक टॉप एग्जिक्यूटिव ने बताया कि कंपनी ग्रोथ और मार्केट शेयर बढ़ाने पर लगातार जोर दे रही है. कंपनी के प्रेजिडेंट सुशील कुमार बाजपेयी ने बताया, ‘हम वॉशिंग मशीन वेरिएंट लॉन्च करने के साथ मॉडर्न ट्रेड चैनल्स का सहारा ले रहे हैं और अपनी पहुंच बढ़ा रहे हैं. इन सब से इस साल सेल्स ग्रोथ में इजाफा करने में मदद मिलेगी.’ मॉडर्न ट्रेड में आरएसपीएल का शेयर काफी कम है, लेकिन आम ट्रेड में वह लीडर बनी हुई है. देश के लॉन्ड्री केयर मार्केट में एचयूएळ की कुल हिस्सेदारी 39.1 फीसदी है.

Check Also

क्वारनटीन सेंटर से निकलकर गेहूं पिसवाने पंहुचा युवक तो पुलिस ने पीटा, किया सुसाइड

लखीमपुर. उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी जिले के फरिया पिपरिया गांव से एक सनसनीखेज मामला …