Tuesday , 15 October 2019
Breaking News

राजनाथ ने तेजस में 30 मिनट तक भरी उड़ान

बेंगलुरु . देश के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने बेंगलुरु स्थित एचएएल हवाईअड्डे से तेजस लड़ाकू विमान में बृहस्पतिवार को उड़ान भरी. इसी के साथ वह स्वदेश में निर्मित हल्के लड़ाकू विमान (एलसीए) में उड़ान भरने वाले पहले रक्षा मंत्री बन गए. जी सूट पहने सिंह विमान में पायलट के पीछे वाली सीट पर बैठे. उनके साथ एयर वाइस मार्शल एन तिवारी भी थे. तिवारी बेंगलुरू में एयरोनॉटिकल डेवलपमेंट एजेंसी (एडीए) के नेशनल फ्लाइट टेस्ट सेंटर में परियोजना निदेशक हैं.

rajnath-tejas

रक्षा मंत्रालय के एक अधिकारी ने बुधवार को बताया था कि स्वदेशी तकनीक से निर्मित तेजस के विकास से जुड़े अधिकारियों का हौसला बढ़ाने के उद्देश्य से रक्षा मंत्री इस हल्के लड़ाकू विमान में उड़ान भरेंगे. अधिकारी ने कहा था उनके इस कदम से भारतीय वायुसेना के उन पायलटों का मनोबल भी बढ़ेगा जो यह विमान उड़ा रहे हैं. भारतीय वायुसेना तेजस विमान की एक खेप को पहले ही शामिल कर चुकी है. एलसीए का नौसैन्य संस्करण फिलहाल निर्माण चरण में है.

  स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री डॉ.हर्षवर्धन ने केंद्रीय स्वास्थ्य संस्थाओं और अस्‍पतालों को प्रदान किए कायाकल्‍प पुरस्‍कार

पिछले शुक्रवार को गोवा में तेजस ने विमान वाहक पोत पर उतरने की काबिलियत दिखाई थी यानि “अरेस्टेड लैंडिंग” की थी. इस लैंडिंग के दौरान नीचे से लगे तारों की मदद से विमान की रफ्तार कम कर दी जाती है. इसी के साथ लड़ाकू विमान के नौसैन्य संस्करण के निर्माण की राह आसान हो गई थी.

  किताब देखकर भी फेल हुए शिक्षकों की आज फिर परीक्षा, फेल हुए तो हो सकती है अनिवार्य सेवानिवृत्ति

बृहस्पतिवार को ही सिंह बेंगलुरु में रक्षा अनुसंधान और शोध संगठन (डीआरडीओ) के उत्पादों की प्रदर्शनी में भी शामिल होंगे. शुरुआत में आईएएफ ने 40 तेजस विमानों के लिए हिन्दुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) को ऑर्डर दिया था. पिछले साल भारतीय वायु सेना ने 50,000 करोड़ रुपये से अधिक की लागत से 83 और तेजस विमानों की अन्य खेप की खरीद के लिए एचएएल को अनुरोध प्रस्ताव (आरएफपी) जारी किया था.

  गौशालाओं की मदद के लिए डोनेशन पोर्टल शुरू

Click & Download Udaipur Kiran App to read Latest Hindi News