राजस्‍थान के सीएम गहलोत की मांग, तबलीगी जमात मामले की जांच सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जस्टिस करे


जयपुर (jaipur) . राजस्थान के मुख्यमंत्री (Chief Minister) अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने तबलीगी जमात के मामले की सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) के रिटायर्ड जस्टिस से जांच कराने की मांग की है. गहलोत ने कहा है कि अगर तबलीगी जमात ने कोई गलती की है, तब उस सजा मिलनी चाहिए, मगर पूरे मुल्क में इस हिंदू-मुसलमान बना दिया गया है. यह भी सच्चाई आनी चाहिए कि क्या उन लोगों ने समय से बता दिया था?

  यूपी- बलिया में चमगादड़ों के मर कर पेड़ों से गिरने से फैली दहशत

सीएम गहलोत ने कहा कि अगर जमातियों ने समय पर बता दिया था, तब एसडीएम और डीएम ने कोई कार्रवाई नहीं की होगी. डब्ल्यूएचओ के लोग वहां सैंपल लेने जा रहे थे फिर भी वहां कोई कार्रवाई नहीं की गई. अगर वह धार्मिक आयोजन कर रहे थे,तब उन्हें क्यों नहीं रोका गया. कार्रवाई करने से किसने रोका था?

  कोरोनावायरस संक्रमण से ठीक होने वालों की संख्या 80,000 के पार, 4,791 मौतें

इस बीच जमातियों को लेकर कई तरह की घटनाएं सामने आ रही है. हरदोई में आइसोलेशन वार्ड में रखे गए जमातियों के अस्पताल कैंपस में घूमने और डॉक्टरों (Doctors) के निर्देश नहीं मानने का मामला सामने आया है. वहीं, दिल्ली के द्वारका आइसोलेशन वार्ड में भी जमातियों ने उपद्रव किया है. यहां पानी की बोतलों में गंदगी भरकर बाहर फेंका गया. पुलिस (Police) ने मामला दर्ज कर लिया है. वहीं, बिहार के सहरसा में जमातियों ने नर्स (Nurse) और डॉक्टरों (Doctors) से बदसलूकी की है.वहीं उत्तराखंड के रूड़की मे जमात से आने की बात छिपाने को लेकर दो लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है.

  हरियाणा ने दिल्ली सीमा को पूरी तरह सील करने के आदेश दिए

Check Also

राजस्‍थान उच्च न्यायालय ने दी राहत : वन विभाग अधिकारियो की गिरफ्तारी पर रोक

जोधपुर. वन विभाग के अधिकारियों एवं जीव रक्षा संस्था के बीच चल रहे प्रकरण में …