रूस ने आखिर तैयार किया कोरोना वैक्सीन

राष्ट्रपति पुतिन ने बताया उनकी एक बेटी को दिया गया टीका

मॉस्को . कोरोना वैक्सीन की दिशा में रूस को बड़ी कामयाबी मिली है. रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने कहा कि उनके वैज्ञानिकों ने कोरोना वायरस की वैक्सीन तैयार कर ली है. उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस वैक्सीन को उपयोग के लिए पंजीकृत किया गया है और उनकी बेटी को टीका लगाया गया है.

russia-corona-vaccine

यह समाचार पर पूरे विस्‍तार से पढ़ें

न्यूज़ एजेंसी एपी के मुताबिक, मंगलवार को एक सरकारी अधिकारियों की बैठक में पुतिन ने कहा कि वैक्सीन परीक्षण के दौरान ठीक साबित हुई है, जो कोरोना वायरस से स्थायी प्रतिरक्षा प्रदान करती है. रूसी एजेंसी TASS के अनुसार, रूस में यह वैक्‍सीन ‘फ्री ऑफ कॉस्‍ट’ उपलब्‍ध होगी. इसपर आने वाली लागत को देश के बजट से पूरा किया जाएगा. बाकी देशों के लिए कीमत का खुलासा अभी नहीं किया गया है.

  प्रेमिका से परेशान युवक ने लगाई पंखे से रस्सी का फंदा लगा फांसी

पुतिन ने जोर दिया कि टीका आवश्यक परीक्षणों से गुजरा है. उन्होंने कहा कि उनकी दो बेटियों में से एक को वैक्सीन का टीका दिया गया है और वह अच्छा महसूस कर रही हैं. राष्ट्रपति पुतिन ने कहा, यह वैक्सीन इम्यून सिस्टम को मजबूत करता है और मैं यह दोहरा रहा हूं कि यह सभी सुरक्षा मानकों पर खरा उतरा है. रूसी अधिकारियों का कहना है कि चिकित्सा कर्मचारी, शिक्षक और अन्य को सबसे पहले टीका लगाए जाएंगे.

  देश में कोरोना संक्रमण 51 लाख के पार 10 लाख से अधिक सक्रिय मरीज

कई वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि रूस वैक्सीन को लेकर जल्दबादी कर रहा है. तीसरे चरण के परीक्षण से पहले टीके का पंजीकरण करने के निर्णय पर सवाल उठा रहे हैं. किसी भी टीके का तीसरे चरण का परीक्षण आम तौर पर हजारों लोगों पर महीनों तक चलता है.

मॉस्‍को के गामलेया रिसर्च इंस्टिट्यूट ने एडेनोवायरस को बेस बनाकर यह वैक्‍सीन तैयार की है. रिसर्चर्स का दावा है कि वैक्‍सीन में जो पार्टिकल्‍स यूज हुए हैं, वे खुद को रेप्लिकेट (कॉपी) नहीं कर सकते. रिसर्च और मैनुफैक्‍चरिंग में शामिल कई लोगों ने खुद को इस वैक्‍सीन की डोज दी है. कुछ लोगों को वैक्‍सीन की डोज दिए जााने पर बुखार आ सकता है जिसके लिए पैरासिटामॉल के इस्‍तेमाल की सलाह दी गई है.

  हरसिमरत के इस्तीफे के बाद राजनीति और गरमाई

दुनियाभर में कोरोना वायरस के मामले बढ़कर दो करोड़ हो गए हैं. संक्रमण के कुल मामलों के करीब दो-तिहाई मामले अमेरिका, भारत और ब्राजील में हैं. स्वास्थ्य अधिकारियों का मानना है कि सीमित जांच और कम से कम 40 प्रतिशत लोगों में कोविड-19 का कोई लक्षण ना होने की वजह से वास्तविक आंकड़ा इससे कई अधिक होने की आशंका है.



Check Also

भाजपा की पूर्व विधायक पारुल साहू कांग्रेस में शामिल

सुरखी विधानसभा में एक बार फिर हाइ प्रोफाइल मुकाबला होने के आसार भोपाल . मध्‍य …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *