Thursday , 28 January 2021

शिक्षक घर-घर जाकर बच्चों को बाटेंगे स्लेट

भोपाल (Bhopal) . प्रदेश में जारी कोरोना (Corona virus) संक्रमण को देखते हुए शिक्षक अब घर-घर जाकर बच्चों को स्लेट बांटेंगे ताकी बच्चे घर पर ही ‎‎लिखने का अभ्यास कर सकेंगे. इस सत्र में अभी तक प्राथमिक व माध्यमिक स्कूल नहीं खुल पाएं हैं. इससे अब तक बच्चों को लिखने का अभ्यास नहीं कराया जा सका है. प्रदेश के सरकारी स्कूलों में पहली व दूसरी कक्षा के बच्चों को लिखने का अभ्यास करने के लिए स्लेट, बत्ती, पेंसिल, रबर और रंगीन पेंसिल दी जाती है. अब बच्चों को स्लेट देने के लिए राज्य शिक्षा केंद्र ने बजट जारी कर दिया है. इसके लिए 10 करोड़ 22 लाख 54 हजार 250 रुपये का बजट जारी किया गया है. सत्र 2020-21 के लिए समग्र शिक्षा अभियान के अंतर्गत पहली व दूसरी कक्षा के बच्चों को स्लेट एवं अन्य सामग्री का वितरण किया जाएगा. सभी जिले के शाला प्रबंध समिति के बैंक (Bank) खातों में राशि भेज दी गई है. अब शिक्षक बच्चों के घर-घर जाकर स्लेट, बत्ती और अन्य सामग्री का वितरण करेंगे. इसके लिए प्रति विद्यार्थी 70 रुपये का बजट दिया जाता है. पहली और दूसरी कक्षा के बच्चों को होमवर्क नहीं दिया जाता है. उन्हें स्लेट पर लिखना-पढ़ना सिखाया जाता है. इसके लिए पहली व दूसरी के बच्चों को इस सत्र में स्लेट व अन्‍य सामग्री अब वितरित की जा रही है. अब तक ऑनलाइन कक्षाओं के माध्यम से उनकी पढ़ाई कराई गई है.

  युवक ने जहरीला पदार्थ खाया

प्राप्त जानकारी के अनुसार, प्रदेश में प्राथमिक स्कूलों की संख्या 62,419 है, वहीं पहली व दूसरी कक्षा में बच्चों की संख्या 14,60,775 है. प्राथमिक शाला में लेखन सामग्री वितरण के लिए 7,91,61,880 रुपये राशि है. माध्यमिक शाला में लेखन सामग्री वितरण के लिए राशि- 2,30,92,370 है. भोपाल (Bhopal) जिले में स्कूलों की संख्या 688 है, पहली व दूसरी कक्षा के बच्चों की संख्या 14,594 है. स्लेट व अन्य शिक्षण सामग्री के लिए बजट 10,21,580 रुपये है. इस बारे में राज्य शिक्षा केंद्र के आयुक्त लोकेश कुमार जाटव का कहना है ‎कि पहली व दूसरी के बच्चों को लिखने का अभ्यास जरूरी है. इस कारण पिछले साल से स्लेट व बत्ती का वितरण किया जा रहा है. इस बार भी बच्चों के घर स्लेट व बत्ती पहुंचाई जाएगी. बजट जारी कर दिया गया है.

Please share this news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *