‘समाजवाद’ से ‘परिवारवाद’ पर आ गयी है सपा-प्रधानमंत्री मोदी

कुशीनगर (Kushinagar) . यू ंतो उप्र विधानसभा का चुनाव करीब तीन महीने दूर है लेकिन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) (Prime Minister Narendra Modi) अभी से चुनावी बिगुल फूंक दिया है. उप्र में प्रमुख विपक्षी दल समाजवादी पार्टी को निशाने पर लेते हुए उन्होंने कहा कि वे राम मनोहर लोहिया की ‘समाजवाद’ की विचार धारा से काफी दूर हो गए हैं और ‘परिवारवाद’ के रास्ते पर आ गए हैं.

कुशीनगर (Kushinagar) में अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे का उद्घाटन, राजकीय मेडिकल कॉलेज समेत कई परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास करने के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने एक जनसभा को संबोधित किया. उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) की पहचान केवल सबसे ज्यादा प्रधानमंत्री देने वाले राज्य के रूप में सीमित नहीं रहनी चाहिए, बल्कि भगवान राम, भगवान कृष्ण और कई अन्य महत्तवपूर्ण लोगों की जन्म एवं निर्वाण स्थल के रूप में इसकी पुरानी और प्राचीन पहचान और निखरनी चाहिए.

प्रदेश में ‘डबल इंजन’ वाली सरकार की बात करते हुए उन्होंने कहा कि राज्य में अब तक किसानों के बैंक (Bank) खातों में 80,000 करोड़ रुपये से अधिक की धनराशि अंतरित की गयी है. उन्होंने अपराधियों और जमीन पर अवैध कब्जा करने वाले भूमाफियाओं के खिलाफ सख्ती और अब तक 12 करोड़ से अधिक लोगों के कोविड-19 (Covid-19) टीकाकरण को लेकर मुख्यमंत्री (Chief Minister) योगी आदित्यनाथ की प्रशंसा की. उन्होंने कहा कि भारत सरकार की जैव-ईंधन और इथेनॉल उत्पादन को प्रोत्साहित करने की नीति का सबसे अधिक फायदा उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के गन्ना किसानों को होगा और कच्चे तेल के आयात पर निर्भरता कम होगी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने यह भी कहा कि 2017 में योगी सरकार से पहले के पांच साल में प्रदेश के गन्ना किसानों को उनके गन्ने के एक लाख करोड़ रुपये के भुगतान किए गए थे. योगी सरकार के कार्यकाल में अब गन्ना किसानों को डेढ़ लाख करोड़ रुपये का भुगतान किया जा चुका है जबकि अभी सरकार के पांच साल पूरे भी नहीं हुए हैं. पीएम मोदी ने कहा कि भारत सरकार की नई जैव ईंधन तथा इथेनॉल नीति से सबसे ज्यादा फायदा चीनी के प्रमुख उत्पादक प्रांत उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) को ही होगा.

इससे पहले प्रधानमंत्री मोदी ने कुशीनगर (Kushinagar) में करीब 281 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले राजकीय मेडिकल कॉलेज का शिलान्यास किया. उन्होंने करीब 181 करोड़ रुपये की लागत वाली 12 विकास परियोजनाओं का भी शिलान्यास व लोकार्पण किया. इनमें गंडक नदी पर बाढ़ सुरक्षा से जुड़ी आठ परियोजनाएं, स्वदेश दर्शन स्कीम में बौद्ध सर्किट योजनांतर्गत पर्यटन विकास, राजकीय महाविद्यालय सुकरौली (Karauli) का निर्माण, नवीन संकेत मूक बधिर राजकीय बालिका आवासीय विद्यालय का निर्माण, कसया-रामकोला व रामपुर खुर्द, कोटवा, घुघली मार्ग का चैड़ीकरण तथा सुदृढ़ीकरण का कार्य शामिल है.
 

न्‍यूज अच्‍छी लगी हो तो कृपया शेयर जरूर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *