स्मार्ट मीटर लगाने को लेकर संयुक्त उद्यम गठन की प्रक्रिया शुरू

नई दिल्ली (New Delhi). बिजली मंत्रालय ने देश में तेजी से स्मार्ट मीटर लगाने को लेकर वितरण कंपनियों को जरूरी ढांचागत सुविधा उपलब्ध कराने के लिए 2,000 करोड़ रुपए की पूंजी के साथ संयुक्त उद्यम के गठन की प्रक्रिया शुरू कर दी है. संयुक्त उद्यम इकाई बिजली मंत्रालय के अधीन आने वाली चार कंपनियों एनटीपीसीद्व आरईसी, पावर ग्रिड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (पीजीसीआईएल) और पावर फाइनेंस कॉरपोरेशन (पीएफसी) मिलकर बनाएंगी.

  फेसबुक इंडिया की वरिष्ठ अधिकारी ने नौकरी छोड़ी

शेयर बाजार को दी गई सूचना के अनुसार पीएफसी और आरईसी के निदेशक मंडलों ने साझा बैकएंड ढांचागत सुविधा (सीबीआईएफ) के लिए संयुक्त उद्यम में 150-150 करोड़ रुपए के इक्विटी निवेश को मंजूरी दे दी है. पीएफसी ने सूचना में कहा निदेशक मंडल की 14 सितंबर, 2020 को हुई बैठक में संयुक्त उद्यम कंपनी में 150 करोड़ रुपए के इक्विटी निवेश को मंजूरी दे दी गई. सीबीआईएफ के ‎लिए बनने वाली इस कंपनी के प्रवर्तक संयुक्त रूप से एनटीपीसी, पीजीसीआईएल, आरईसी और पीएफसी होंगी.

  आर्थिक तंगी : विधवा महिला ने अपने तीन बच्चों के साथ पीया जहर, मां और बेटे की मौत

आरईसी ने अलग से बीएसई को दी सूचना में कहा कि उसके निदेशक मंडल की 15 सितंबर को हुई बैठक में संयुक्त उद्यम कंपनी में 150 करोड़ रुपए के इक्विटी निवेश की मंजूरी दी गई है. एनटीपीसी और पावर ग्रिड के निदेशक मंडलों को अभी 150-150 करोड़ रुपए के इक्विटी निवेश को मंजूरी देन बाकी है. चारों प्रवर्तकों द्वारा इस संयुक्त उद्यम में इक्विटी निवेश 600 करोड़ रुपए होगा जबकि कर्ज हिस्सा 1,400 करोड़ रुपए होगा. सीबीआईएफ यानी जरूरी ढांचागत सुविधा से देश भर में स्मार्ट मीटर का तेजी से क्रियान्वयन हो सकेगा. इससे वितरण कंपनियों के लिए तय मानक के आधार पर स्मार्ट मीटर लगाना आसान होगा.

  नए दिशा निर्देश विनियमन ढांचे को और मजबूत करेंगे: मंत्री महेंद्रनाथ पांडे

Check Also

थर-थर कांप रहे थे जनरल बाजवा के पैर

अयाज सादिक के बयान पर पाकिस्तान में जमकर हंगामा नई दिल्‍ली . पाकिस्तान में पीएमएल-एन …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *