ऑफिस और फ्लैट के नाम पर 1.57 करोड़ रुपए ठगे


नई दिल्ली . ऑफिस और फ्लैट देने का झांसा देकर आरोपियों ने एक युवक से 1.57 करोड़ रुपये ठग लिए. 7 वर्ष बीतने के बाद भी जब आरोपियों ने रकम नहीं लौटाई तो पीड़ित ने ग्रेटर कैलाश थाने में केस दर्ज कराया. पुलिस ने आरोपियों को पूछताछ के लिए बुलाया है.

दिल्ली पुलिस का कहना है कि, पीड़ित रविंद्र सिंह ग्रेटर कैलाश-1 में रहते हैं. रविंद्र सिंह ने बताया कि वर्ष 2013 में अपने एक परिचित के जरिए उनकी मुलाकात राम चंद्र सोनी, आशीष गुप्ता, अंकित गुप्ता, कपिल कुमार, दीपक कुमार समेत अन्य आरोपियों से हुई. आरोपियों ने खुद को एएमआर इंफ्रास्ट्रक्चर कंपनी का मालिक बताया. निवेश पर कम समय में अच्छे मुनाफे का झांसा देकर आरोपियों ने प्रोजेक्ट में 2000 वर्गमीटर का ऑफिस स्पेस और 1640 वर्गमीटर का फ्लैट रविंद्र सिंह के नाम पर बुक लिया. इसके एवज में आरोपियों ने उनसे 1.57 करोड़ रु लिए.

  मारुति सुज़ुकी और भेल के सहयोग से किया जा रहा है वेंटिलेटरों का निर्माण

आरोपियों ने इस तरह कई लोगों से बुकिंग के नाम पर मोटी रकम वसूली. इसके बाद आरोपियों ने बिना किसी को बताए निवेशकों की रकम दूसरी कंपनियां बनाकर उनमें ट्रांसफर कर दी. काफी समय तक आरोपी पीड़ितों को जल्द पजेशन मिलने की बात कहकर टालते रहे, लेकिन कई साल बीतने के बावजूद पजेशन नहीं मिला तो पीड़ितों ने पैसे वापस मांगे. आरोपियों ने उन्हें रुपये देने से इनकार कर दिया, जिसके बाद पीड़ित ने मामला दर्ज कराया. पुलिस उपायुक्त अतुल कुमार का कहना है कि मामले की शिकायत के बाद 15 लोगों के खिलाफ धोखाधड़ी की धाराओं में केस दर्ज किया गया है. जल्द ही आरोपियों को गिरफ्तार किया जाएगा.

  कोरोना संकट के बीच बाइडेन ने की ईरान के प्रतिबंध खत्म करने की अपील

Check Also

क्वारनटीन सेंटर से निकलकर गेहूं पिसवाने पंहुचा युवक तो पुलिस ने पीटा, किया सुसाइड

लखीमपुर. उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी जिले के फरिया पिपरिया गांव से एक सनसनीखेज मामला …