1000 से ज्यादा गरीब बच्चों को मुफ्त में पढ़ाएगी मेवाड़ यूनिवर्सिटी

10वीं और 12वीं की पढ़ाई के बाद ऐसे गरीब छात्र-छात्राएं जो पैसों की तंगी की वजह से पढ़ाई छोड़ देते थे और आगे की पढ़ाई नहीं कर पाते हैं, ऐसे विद्यार्थियों के लिए राहत भरी खबर है.

मेवाड़ यूनिवर्सिटी चित्तौड़गढ़ और सिद्धि विनायक ट्रस्ट डूंगरपुर (Dungarpur) मिलकर ऐसे गरीब परिवार के करीब 1 हजार बच्चों को मुफ्त में शिक्षा देंगे. कॉलेज शिक्षा से लेकर पैरामेडिकल, इंजीनियरिंग और कम्प्यूटर साइंस से जुड़े करीब 300 से ज्यादा कोर्स में ऐसे विद्यार्थियों को एडमिशन दिया जाएगा, जिसके लिए उनसे किसी तरह की फीस नहीं ली जाएगी. ऐसे में पैसों की तंगी के कारण पढ़ाई छोड़ देने वाले विद्यार्थी अब अपना सपना पूरा कर सकेंगे.

  उदयपुर में होगी अब और ज्यादा सख्ती : कलक्टर ने जारी किए विस्तृत निर्देश

मेवाड़ यूनिवर्सिटी चित्तौड़गढ़ के निदेशक कुमार राजेश के साथ ही सिद्धि विनायक ट्रस्ट के अध्यक्ष भावेश नायक ने प्रेसवार्ता में बताया कि उनका उद्देश्य गरीब बच्चों को रोजगारपरक शिक्षा देना है, जिससे कि कोर्स के बाद वह सरकारी और प्राइवेट क्षेत्र में अपनी नौकरी हासिल कर सकें. साथ ही गरीब परिवार पर बच्चों की पढ़ाई के कारण पड़ने वाले आर्थिक बोझ से भी राहत देने का प्रयास किया जा रहा है. ऐसे बच्चों के लिए हॉस्टल में रहने के इंतजाम भी किए जाएंगे. संचालन नितिन भारती ने किया.

न्‍यूज अच्‍छी लगी हो तो कृपया शेयर जरूर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *