Friday , 19 October 2018
Breaking News

सायरा थाना पुलिस ने दो कार्रवाइयों में दो बाल श्रमिक बच्चों को मुक्त करवाया, सीडब्ल्यूसी ने दिया अस्थाई प्रवेश

उदयपुर. उदयपुर जिले में में चल रहे बालश्रम के विरोध में रेस्क्यू अभियान के तहत पुलिस थाना सायरा में आज दो जगह कार्रवाई करते हुए दो बाल श्रमिकों को मुक्त कराया है दोनों रेस्टोरेंट संचालकों के विरुद्ध जेजे एक्ट में मामला दर्ज किया है.

जिला पुलिस अधीक्षक कुंवर राष्ट्रदीप सिंह के नेतृत्व में चल रहे बाल श्रम उन्मूलन अभियान के तहत पुलिस थाना सायरा के थाना अधिकारी जसवंत सिंह के साथ हेड कांस्टेबल राजेंद्र सिंह ने पहली कार्रवाई मैं भगवती रेस्टोरेंट एवं दूसरी कार्रवाई महादेव रेस्टोरेंट में की जहां पर करीब 16 ओर 12 साल के दो बालक रेस्टोरेंट पर काम कर रहै थे. रेस्क्यू के दौरान बालक ने उसे 3:00 ₹4000 मासिक वेतन को 20 से 22 घंटे तक खाना बनाने बर्तन साफ कराने सहित विभिन्न बाल श्रम करने की बात कही पुलिस ने रेस्टोरेंट संचालक के विरुद्ध जेजे एक्ट की धारा 75 व 79 ओर 374 भारतीय दंड संहिता में प्रकरण दर्ज कर बालक को सुरक्षित रेस्क्यू किया है. दोनों बालकों की स्थिति अत्यंत दयनीय बताया गई है और इनसे 13 से 15 घंटे बाल शम कराया जाना बताया गया है.

बाल कल्याण समिति ने दिया प्रवेश

पुलिस थाना सायरा से से बाल कल्याण अधिकारी राजेंद्र सिंह ने रेस्क्यू कर बाल श्रम से मुक्त कराए दोनों बालकों को देर शाम बाल कल्याण समिति सदस्य हरीश पालीवाल के समक्ष निवास पर पेश किया. सदस्य पालीवाल में दोनों बालकों को विशेष देखभाल एवं संरक्षण वाला तथा जेजे एक्ट की धारा दो नियम 4 के तहत बाल श्रम में नियोजित पाए जाने पर उन्हें अविलंब सुखेर स्थित जीवन ज्योति गया में प्रेषित कर आया है दोनों बालकों के मेडिकल एवं आयु परीक्षण के लिए  आदेश जारी किए गए है.
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*