Friday , 14 December 2018
Breaking News

दुर्गा पूजा में बड़े पैमाने पर स्टाल लगा रही है भाजपा-तृणमूल-माकपा

कोलकाता, 13 अक्टूबर (उदयपुर किरण). पश्चिम बंगाल में दुर्गा पूजा के दौरान करोड़ों की संख्या में देश-विदेश से लोग राजधानी कोलकाता और राज्य के अन्य हिस्सों में उमड़ते हैं. ऐसे में मौका भी है और दस्तूर भी. इसे भुनाने का कोई भी मौका ना तो सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस छोड़ना चाहती है और ना ही भाजपा. इस साल दुर्गा पूजा के दौरान सत्तारूढ़ तृणमूल के अलावा विपक्षी भाजपा और माकपा ने राजधानी कोलकाता और राज्य के अन्य हिस्सों में पूजा पंडालों के बाहर बड़ी संख्या में अपने-अपने बुक स्टॉल लगाए हैं. वैसे भी पश्चिम बंगाल के लोक साहित्य प्रेमी होते हैं इसीलिए विगत कई सालों से राजनीतिक पार्टियों की ओर से दुर्गा पूजा पंडालों के बाहर बुक स्टॉल लगाने की परंपरा चली आ रही है.

विगत कुछ सालों तक भारतीय जनता पार्टी इस मामले में पीछे थी लेकिन जन समर्थन बढ़ने के साथ मजबूत हुई पार्टी ने इस बार राजधानी कोलकाता में करीब 200 से अधिक पूजा पंडालों में अपने बुक स्टॉल लगाए हैं. यहां श्यामा प्रसाद मुखर्जी, अटल बिहारी बाजपेई, स्वामी विवेकानंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत कई अन्य दिग्गज लेखकों द्वारा लिखी गई हिंदुत्व और राष्ट्रवाद से संबंधित किताबें बिक्री के लिए रखी गई हैं. प्रत्येक स्टॉल पर कोई ना कोई प्रखर वक्ता को रखा गया है जो बुक स्टॉल पर आने वाले लोगों को पार्टी की विचारधारा के प्रति जागरूक करेंगे.

शनिवार शाम इस बारे में भाजपा के राज्य महासचिव सायंतन बसु ने जानकारी दी है. उन्होंने बताया कि पंचमी के दिन से भाजपा की ओर से राजधानी कोलकाता में लगाए गए बुक स्टॉल का उद्घाटन शुरू हो जाएगा. उन्हें उम्मीद है कि बड़े पैमाने पर लोग भारतीय जनता पार्टी के स्टॉल पर उमड़ेंगे और किताबों की बिक्री होगी. इधर सत्तारूढ़ तृणमूल भी इस मामले में कहीं पीछे नहीं है. पार्टी के मुखपत्र “जागो बांग्ला” के भी स्टॉल पूरे राजधानी समेत राज्य भर के विभिन्न पूजा मंडप के पास लगाए गए हैं. यहां मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की ओर से लिखी गई किताबें और पश्चिम बंगाल सरकार की उपलब्धियों के बारे में लोगों को जागरूक करने के लिए बैनर पोस्टर लगाए गए हैं.

वामपंथी इस बार इस मामले में पिछड़ गए हैं.कोलकाता के बहुत कम पूजा मंडपों में वामपंथियों का स्टॉल है. हालांकि दक्षिण 24 परगना और उत्तर 24 परगना के कुछ पूजा पंडालों के पास इन पार्टियों के स्टॉल भी लगाए गए हैं जहां मार्क्सवादी कम्युनिस्टों द्वारा लिखी गई तमाम तरह की किताबें मौजूद है. इस बार खास तौर पर पश्चिम बंगाल के पूर्व मुख्यमंत्री बुद्धदेव भट्टाचार्य द्वारा हिटलर की सेना की पराजय पर किए गए विश्लेषण को लेकर लिखी गई किताब को वामपंथियों के स्टॉल पर रखा गया है. उल्लेखनीय है कि पश्चिम बंगाल में राजनीतिक पार्टियां अधिक से अधिक जनसंयोग बढ़ाने के लिए दुर्गा पूजा पंडालों में बुक स्टॉल लगाती हैं जहां पार्टी की विचारधारा से संबंधित किताबें और उपलब्धियों के बारे में दस्तावेज रखे जाते हैं. बड़े पैमाने पर लोग किताबे खरीदते भी हैं.

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*