Monday , 19 November 2018
Breaking News

नक्सल मामले पर रणदीप सुरजेवाला ने दी सफाई, मोदी पर किया पलटवार

रायपुर, 10 नवंबर (उदयपुर किरण). जिस दिन से हिन्दुस्थान समाचार ने नक्सल समस्या के निवारण पर राज बब्बर से सवाल किया है, उस दिन से कांग्रेस सफाई देते नजर आ रही है, आपको बता दें कि नक्सल मामले पर हिन्दुस्थान समाचार से राज बब्बर ने कहा था कि नक्सलवाद एक क्रांति है, उसी के बाद से भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह, स्मृति ईरानी, राष्ट्रीय प्रवक्ता गौरव भाटिया और अब प्रधानमंत्री ने राज बब्बर के नक्सलवादी क्रांतिकारी वाले बयान पर जमकर बरसे. मामले को तूल पकड़ता देख राहुल गांधी ने भी नक्सल मामले पर कहा कि पीएम आज भ्रष्टाचार के मुद्दे पर बात नहीं कर रहे सिर्फ नक्सलवाद पर बोल रहे हैं.

अब कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता ने भी इस मामले में दखल दी है. रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश में हार की संभावनओं से बौखलाकर प्रधान मंत्री नक्सलवाद से लड़ने के लिए अपनी असफल विफलता और कमजोर दृष्टिकोण को छिपाने की कोशिश करते हैं. नोटबंदी को घोषित करते समय किये गये दावे खोखले निकले, नोटबंदी के बाद 1030 नक्सली घटनाएं फरवरी 2018 तक और 114 जवानों की शहादत हो चुकी है.

रणदीप सुरजेवाला ने नक्सलवाद पर कहा कि बिना रीढ़ की हड्डी की मोदी सरकार को याद दिलाना चाहते है कि छत्तीसगढ़ में 11 जवानों को 27 अक्टूबर से पिछले 14 दिनों में नक्सल आतंक के हाथों खो दिया है, जिसमें दो दिन पहले हुई दो जवान सहित पांच ग्रामीणों की शहादत भी शामिल है. क्या मोदी को आज उन शहीद जवानों को उन्हें याद करने का समय मिला, क्योंकि मोदी तो अपना ट्रेडमार्क बन चुकी स्तरहीन राजनीति में लगे हुए थे.

रणदीप सुरजेवाला ने मोदी पर पलटवार करते हुए कहा कि मोदी जी, क्या आप अभी भी अपने स्वयं के बयान ’नक्सल’ को अपने ’अपने लोगों’ कहने के बयान पर कायम है. डॉ. रमन सिंह ने नक्सलियों के माटी के बेटे कहकर को बुलाया था ’जिन्हें’ अपने बच्चों की तरह स्वागत किया जाएगा, क्या उस बयान पर रमन सिंह कायम है. क्या मोदी और रमन को कांग्रेस पर निराधार आरोप मढ़ते वक्त याद है कि कांग्रेस ने 25 मई 2013 को अपने 25 नेताओं को भाजपा सरकार की ही कथित सुरक्षा में माओवादी हमले में खो दिया था.

सुरजेवाला ने कहा कि आपके खोखले दावों की असलियत यह है कि आपके कथित अपने लोगों (नक्सलियों) ने 8 नवंबर 2018 को दंतेवाड़ा में शहीद महेन्द कर्मा के बेटे छविन्द्र कर्मा पर हमला किया, ठीक आपके छत्तीसगढ़ दौरे के 24 घंटे पहले. माओवादी घटनाओं और माओवाद के विस्तार को रोकने के लिए 56 इंच के सीने वाली केंद्र और राज्य की भाजपा सरकारो ने अब तक क्या किया.

सुरजेवाला यहीं नहीं रुके उन्होने कहा कि छत्तीसगढ़ को लगातार प्रभावित करने वाले नक्सलवाद से लड़ने के लिये छत्तीसगढ़ राज्य को सिर्फ 53 करोड़ रुपये आवंटित किए जाने पर आपकी माओवाद से लड़ने के बड़े-बड़े खोखले दावों के पीछे छिपी बेईमानी उजागर हो गयी है. छत्तीसगढ़ में सरकार चलाने में भाजपा की दोनों सरकारों, केन्द्र और राज्य सरकारों की अक्षमता का यह जीता जागता सबूत है. आपको बता दें छत्तीसगढ़ की पूरी राजनीति इस समय सिर्फ और सिर्फ राज बब्बर के नक्सलवाद एक क्रांति वाले बयान के आस-पास घूम रही है.

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*