Monday , 17 December 2018
Breaking News

कांग्रेस की रणनीति से देरी से आएंगे चुनावी नतीजे

भोपाल, 08 दिसंबर (उदयपुर किरण). प्रमुख विपक्षी दल कांग्रेस द्वारा इस बार विधानसभा चुनाव की मतगणना बारीकी से कराने और हर राउंड के बाद रिटर्निंग आफिसर से अनिवार्य रूप से सर्टिफिकेट लेने के फैसले से चुनाव परिणाम की घोषणा में देरी हो सकती है. ऐसे में इस बार चुनाव परिणाम में स्थिति स्पष्ट होने में देर लगेगी.

कांग्रेस ने मतगणना में थोड़ी-सी भी गड़बड़ी आने पर तगड़ा विरोध करने की रणनीति बनाई है. विधानसभा के मतों की गणना में मतदान केन्द्रों के हिसाब से राउंड तय होंगे. एक विधानसभा में 18 से लेकर 22 से अधिक राउंड हो सकते हैं. चुनाव आयोग के निर्देशानुसार, हर विधानसभा क्षेत्र में एक मतदान केन्द्र का चुनाव रैंडम आधार पर करके वहां पर उपयोग हुई वीवीपैट की स्लिपों का मिलान ईवीएम के कंट्रोल यूनिट में प्रदर्शित परिणाम से अनिवार्य रूप से किया जाएगा.

शनिवार को मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी वीएल कांताराव ने बताया कि इस दौरान देखा जाएगा कि जो मतों की संख्या ईवीएम में दिखाई दे रही है, क्या वही संख्या वीवीपैट की पर्ची में भी है या नहीं?‍ इस कार्य की वीडियोग्राफी करवाई जाएगी. हर मतगणना केंद्र पर 14 टेबल के साथ एक टेबल मतपत्रों की गिनती के लिए लगाई जाएगी. इस प्रकार पूरे प्रदेश में 3450 टेबल लगाई जाएंगी और मतपत्रों की गिनती के लिए लगभग 14600 कर्मियों को लगाया जाएगा.

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*