Thursday , 25 April 2019
Breaking News

सांप्रदायिक घृणा, उन्माद व कट्टरता मिटाने के लिए आईओएस तैयार कर रही किताबों की शृंखला

हिंदू-मुसलमानों को 122 धार्मिक किताबों के माध्यम से एक-दूसरे के धर्म के बारे में दी जाएगी जानकारी

नई दिल्ली, 17 जनवरी (उदयपुर किरण). भारतीय मुसलमानों का थिंक टैंक माने जाने वाले इंस्टीट्यूट आफ ऑब्जेक्टिव स्टडीज (आईओएस) ने भारत में सांप्रदायिक घृणा, उन्माद और धार्मिक कट्टरता को किताबों के माध्यम से दूर करने का फैसला लिया है. आईओएस के चेयरमैन डॉक्टर मोहम्मद मंजूर आलम ने आज यहां मीडिया से बातचीत में स्पष्ट किया कि वर्तमान में देश का माहौल काफी खराब हुआ है जिसके लिए केंद्र की भारतीय जनता पार्टी की सरकार जिम्मेदार है. उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी की सरकार की हुकूमत के दौरान जो नफरत और उन्माद का माहौल पैदा हुआ है उसको दूर करने में बहुत अधिक समय लगेगा.

डॉक्टर आलम ने कहा कि आईओएस एक रिसर्च संस्था है और देश की विभिन्न समस्याओं पर काफी गहरी नजर रखता है. भारतीय मुसलमानों की विभिन्न समस्याओं और उसके समाधान पर लंबे समय से संस्था काम कर रहा है. भारतीय मुसलमानों की आर्थिक-सामाजिक स्थिति का अवलोकन करने के लिए समय-समय पर सम्मेलन और वर्कशाप आदि का आयोजन किया जाता है. उन्होंने कहा कि देश में व्याप्त नफरत के माहौल को देखते हुए संस्था द्वारा काफी चिंता व्यक्त की जा रही है. उन्होंने कहा कि आईओएस ने हिंदू मुसलमानों के बीच बढ़ रही खाई को दूर करने के लिए किताबों की सीरिज प्रकाशित करने का फैसला लिया है. उन्होंने कहा कि इस सिलसिले में इस्लाम से संबंधित तमाम तरह की गलत धारणाओं और दुष्प्रचार वगैरह को दूर करने के लिए और बहुसंख्यक समाज को शिक्षित करने के लिए 122 किताबों की शृंखला तैयार की जाएगी.

इन किताबों के माध्यम से बहुसंख्यक समाज को इस्लाम के बारे में सही जानकारी उपलब्ध कराई जाएगी. यह सभी पुस्तकें देश की 16 भाषाओं में प्रकाशित कराई जाएंगी. उन्होंने बताया कि आईओएस 12 साल से 22 साल के बच्चों को खासतौर ऐसे मुहिम के माध्यम से जोड़ने की कोशिश करेगा. उन्होंने बताया कि इसी उम्र के बच्चों को सही दिशा देने की जरूरत है. इसके साथ ही भारतीय मुसलमानों को हिंदू धर्म की सही जानकारी उपलब्ध कराने के लिए भी किताबों की एक शृंखला तैयार कराई जा रही है जिसमें गीता, वेद, उपनिषद आदि के माध्यम से मुसलमानों को हिंदू धर्म के मूल उद्देश्यों और उनकी पूजा पद्धति आदि के बारे में विस्तार से बताने की कोशिश की जाएगी. उन्होंने बताया कि हिंदू धर्म के ग्रंथों का लंबे समय से अध्ययन कर रहे हैं मौलाना अब्दुल हमीद नोमानी किताबों की एक शृंखला तैयार कर रहे हैं. उनके द्वारा लिखी गई एक पुस्तक हिंदू धर्म और राष्ट्रवाद तैयार भी हो गसका जल्द ही विमोचन किया जाएगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Inline
Inline