Wednesday , 20 February 2019
Breaking News

याद किये गए आर्य समाज के प्रवर्तक स्वामी दयानंद सरस्वती

बेगूसराय,12फरवरी (उदयपुर किरण). आर्य समाज के प्रवर्तक स्वामी दयानंद सरस्वती की 295 वीं जयंती मंगलवार को शहीद सुखदेव सिंह समन्वय समिति के तत्वावधान में सर्वोदय नगर में सम्मान पूर्वक मनाई गई. मौके पर लोगों ने अमेरिका के प्रथम राष्ट्रपति जॉर्ज वॉशिंगटन को भी 287 वीं जयंती पर याद किया. समारोह की अध्यक्षता करते हुए शिक्षक नेता अमरेंद्र कुमार सिंह ने कहा कि स्वामी दयानंद सरस्वती आर्य समाज के प्रवर्तक तो थे ही, उन्होंने भारतीय वेदांत दर्शन को भी समृद्ध किया. वे मूर्ति पूजा का भी विरोध करते थे. दयानंद सरस्वती ने भारतीय मनीषियों के विचारों को एक नई गति प्रदान की तथा धार्मिक संकीर्णता, पाखंड, जातिवाद और बाल विवाह का घोर विरोध कर भारतीय समाज में एक नई दिशा प्रदान की. भारतीय संस्कृति को बनाए रखने का काम किया. जॉर्ज वाशिंगटन की चर्चा करते हुए वक्ताओं ने कहा कि वह अमेरिका के एक महान स्वतंत्रता सेनानी थे जिनके अथक प्रयास से 1783 में अमेरिका को स्वतंत्रता प्राप्त हुई. वे अमेरिका के राज्यों की संयुक्त सेनाओं के प्रधान चुने गए और नौ वर्षीय युद्ध में ब्रिटिश सेना के छक्के छुड़ाकर अमेरिका का भाग्योदय किया. उसे विश्व के रंगमंच पर एक महान देश के रूप में स्थापित किया. जयंती समारोह को साहित्यकार डॉ चंद्रशेखर चौरसिया, जदयू अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के प्रदेश उपाध्यक्ष अब्दुल हलीम, माध्यमिक शिक्षक संघ के नेता राजेंद्र नारायण सिंह, जेपी सेनानी के प्रदेश महासचिव डॉ शैलेंद्र कुमार सिंह, अधिवक्ता राजेंद्र महतो, राजीव कुमार एवं डॉ ललिता कुमारी आदि ने भी तैल चित्र पर माल्यार्पण कर स्वामी दयानंद सरस्वती एवं जॉर्ज वॉशिंगटन के कृतित्व पर चर्चा किया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Inline
if:
Inline
if: