Friday , 24 May 2019
Breaking News

नाबालिग शादी को नहीं हुई राजी तो तीन साल तक करता रहा दुष्कर्म

उदयपुर. जिले के परसाद थाना क्षेत्र में विगत तीन वर्षों से एक नाबालिग किशोरी के साथ दुष्कर्म करने के मामले में पुलिस ने एक आरोपी को गिरफ्तार किया. बताया गया कि पीड़िता के अभिभावक एक बच्चे के पिता आरोपी से उसकी शादी कराना चाह रहे थे, लेकिन उसने मना कर दिया था. इसके बाद आरोपी उसके साथ दुष्कर्म कर रहा था. पीड़िता को बाल कल्याण समिति के समक्ष पेश किया गया, जहां से अस्थाई तौर पर किशोरी गृह में प्रवेशित कराया गया.

पीड़िता ने अपने साथ हो रहे घटनाक्रम से एक स्वयंसेवी संस्था के कार्यकर्ता को अवगत कराया. उसने इससे बाल कल्याण समिति के सदस्य एडवोकेट हरीश पालीवाल को अवगत कराया. पालीवाल ने मामले की गम्भीरता को देख परसाद थाना धिकारी सुभाष परमार को अभियुक्त दामाजी पुत्र नाथूलाल बुज निवासी सलूम्बर को गिरफ्तार करने के आदेश दिए. इस पर पुलिस ने उसे गिरफ्तार किया. अभियुक्त पर नाबालिग के साथ दुष्कर्म कर अश्लील आपत्तिजनक फोटो खींचकर वायरल करने की धमकियां देने का आरोप है. पीड़िता संयुक्त परिवार में रहती है. बालिका कक्षा 9वीं तक पढ़ी-लिखी होकर आगे पढ़ना चाहती थी, लेकिन मां-बाप ने अभियुक्त के कहने पर पढ़ाई छुड़वा दी. समिति सदस्य पालीवाल को बालिका ने बताया कि करीब 3 वर्ष पूर्व उसके माता-पिता ने उसकी इच्छा के विरूद्ध अभियुक्त दामा को घर बुलवाया. इस दौरान उस पर अधेड़ उम्र के व्यक्ति से शादी का दबाव बनाया, लेकिन उसने माता-पिता को मना कर दिया था.

इस पर अभियुक्त दामा ने माता-पिता को डराया-धमकाया तथा कहा कि मेरी बात मान ले वरना तुझे व तेरे परिवार को जान से मार दूंगा और तेरे छोटे भाई-बहनों को उठाकर ले जाऊंगा और बहनों को बेच दूंगा. इस वजह से नाबालिग डर गई. अभियुक्त रात 10 बजे बाद कभी भी नाबालिग के घर आ जाता और दुष्कर्म करता. इस दौरान नाबालिग पिछले साल गर्भवती हो गई तो रात को बलात्कार से रोकने पर अभियुक्त ने उसके साथ मारपीट की. गर्भ ठहरने की जानकारी देने पर मारपीट कर दुष्कर्म किया और उसके बाद उसने दूसरे-तीसरे दिन गर्भ (बच्चा) गिराने की गोलियां लाकर दी. बालिका ने सोमवार को स्वयंसेवकों के साथ समिति न्यायपीठ सदस्य एडवोकेट हरीश पालीवाल, डॉ. राजकुमारी भार्गव, सुशील दशोरा, बीके गुप्ता एवं अध्यक्ष डॉ. प्रीति जैन के समक्ष उपस्थित होकर विशेष देखभाल एवं संरक्षण की आवश्यकता जताई, जिस पर उसे घोषित कर राजकीय किशोरी गृह में प्रवेशित कराया गया है.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Inline
Inline