Wednesday , 19 June 2019
Breaking News

चिटफंड कंपनी बी.एन.गोल्ड की संपत्ति कुर्की का अंतरिम आदेश जारी

कोरबा 14 जून 19. मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल के निर्देश पर छत्तीसगढ़ में चिटफंड कंपनियों के विरूद्ध कार्यवाही कर निवेशकों को उनकी राशि वापस दिलाने के अभियान में तेजी से काम किया जा रहा है. जिले की कलेक्टर श्रीमती किरण कौशल ने भी कोरबा की एक कंपनी बी.एन.गोल्ड कंपनी के विरूद्ध परिसंपत्तियों के कुर्की का अंतरिम आदेश जारी कर दिया है. इस कंपनी का कार्यालय इंद्रा व्यवसायिक सह आवासीय केंद्र टीपी नगर कोरबा में था, जो वर्तमान में बंद है.

कंपनी के विरूद्ध कुसमुंडा थाना में धारा 420, 34 भादवि 4, 5, 6, और छत्तीसगढ़ के निक्षेपकों का संरक्षण अधिनियम 2005 की धारा 10 क एवं ईनामी चिटफंड धन परिचालन अधिनियम 1978 की धारा 3, 4, 5 के तहत प्रकरण दर्ज किया गया है. कंपनी की इंदिरा व्यवसायिक सह आवासीय केंद्र एवं टीपी नगर कोरबा के भूखंड क्रमांक 16 ए एवं 16 बी में निर्मित दुकानों के दुकान क्रमांक 16 एवं 17 को कुर्की करने का अंतरिम आदेश कलेक्टर ने जारी किया है. उक्त संबंध में मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट कोरबा के न्यायालय में भी प्रकरण विचाराधीन है. न्यायालय द्वारा अंतिम आदेश जारी हो जाने पर संपत्तियों की कुर्की की जायेगी.

जारी किये गये आदेश के अनुसार कुसमुंडा थाने में बी.एन.गोल्ड कंपनी के विरूद्ध पंजीकृत अपराध क्रमांक 81/2016 के संबंध में तहसीलदार, अनुविभागीय राजस्व अधिकारी, नगर निगम आयुक्त द्वारा संपत्तियों का परीक्षण कर प्रतिवेदन दिया गया है. तहसीलदार एवं एसडीएम के प्रतिवेदन के अनुसार मौजा कोरबा पटवारी हल्का नंबर 09 की भूमि खसरा नंबर 188/1/क/1 की भूमि में व्यवसायिक सह आवास हेतु नगर निगम कोरबा द्वारा शिवदयालय सिंह पिता विश्राम सिंह वगैरह को लीज पर आबंटित किया गया है. उक्त भूखंड में से भूखंड क्रमांक 16 ए एवं 16 बी में निर्मित दुकान को बी.एन.गोल्ड रियल स्टेट एण्ड एल्लाईट लिमिटेड द्वारा क्रय किया गया है. क्रय दुकान 16 एवं 17 में बी.एन.गोल्ड रियल स्टेट एण्ड एल्लाईट लिमिटेड का आधिपत्य है. जो वर्तमान में बंद है.

नगर निगम आयुक्त ने अपने प्रतिवेदन में उल्लेखित किया है कि नगर पालिक निगम कोरबा की इंदिरा व्यावसायिक सह आवासीय केंद्र के भूखण्ड क्रमांक 16 ए साईज पांच हजार वर्ग फुट एवं 16 बी साईज पांच हजार वर्गफुट  शिवदयाल सिंह आत्मज स्व. विश्राम सिंह, श्री दिनेश कुमार सिंह आत्मज श्री शिवदयाल सिंह एवं श्री मुकेश सिंह आत्मज श्री शिवदयाल सिंह के संयुक्त नाम पर 30 वर्षीय लीज पर आबंटित है, किंतु लीज होल्ड भूखंड पर निर्मित दुकानें विभिन्न के्रताओं को विक्रय डीड आधार पर विक्रय की गई है. इन क्रय दुकानों पर संबंधित के्रता ही भवन स्वामी हैं. उपरोक्त भूखंड पर निर्मित दुकान क्रमांक 16 एवं 17 के के्रता बी.एन.गोल्ड रियल स्टेट एण्ड एल्लाइट लिमिटेड ही भवन स्वामी है. निगम द्वारा विक्रय आधार पर इनके नाम पर अभिलेखों में नाम दर्ज किया गया है. संबंधित संपत्ति के संबंध में कोई देनदारी अथवा वसूली हेतु बी.एन.गोल्ड रियल स्टेट एण्ड एल्लाइट लिमिटेड स्वयं उत्तरदायी है. नगर पालिक निगम कोरबा ने अपने प्रतिवेदन में यह भी उल्लेखित किया है कि किसी भी प्रकार की देनदारी या ऋण संबंधी दावों की वसूली के लिए सक्षम प्राधिकारी या न्यायालय द्वारा कार्यवाही करके उक्त संपत्ति नीलाम की जाती है तो नीलामी की कार्यवाही के परिपालन में नगर पालिक निगम कोरबा के अभिलेख में नीलामी में संपत्ति क्रय करने वाले के्रता के नाम पर दर्ज करने में नगर पालिक निगम को कोई आपत्ति नहीं है. इस संबंध में सक्षम सुनवाई के लिए कंपनी के डायरेक्टर गुरविंदर सिंह को भी बताये गये पते पर नोटिस जारी किये गये, परंतु नोटिस तामिली रिपोर्ट के अनुसार श्री गुरूविंदर सिंह संधु, आशीष कुमार गुप्ता, अनिल शर्मा उल्लेखित पते पर नहीं हैं, फरार होना बताये गये हैं.

जिला दण्डाधिकारी ने अपने आदेश में स्पष्ट किया है कि चूंकि संपत्ति नगर निगम कोरबा की है और उसे नगर निगम द्वारा लीज पर प्रदान किया गया है. नगर निगम द्वारा प्रदाय लीज डीड को निरस्त कर संपत्ति को पुनः नीलाम कर प्राप्त राशि को निवेशकों को प्रदाय किया जा सकता है. अतः निक्षेपकों के हितों के संरक्षण अधिनियम 2005 की धारा 7 के अनुसार संपत्ति के कुर्की का अंतिरिम आदेश जारी किया गया है और नगर निगम कोरबा को आदेशित किया गया है कि वाद संपत्ति का बी.एन.गोल्ड रियल स्टेट कोरबा के पक्ष में निष्पादित लीज डीड को निरस्त कर वाद संपत्ति का आधिपत्य भी प्राप्त कर लें.

Click & Download Udaipur Kiran App to read Latest Hindi News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Inline

Click & Download Udaipur Kiran App to read Latest Hindi News

Inline

Click & Download Udaipur Kiran App to read Latest Hindi News