मरते-मरते भी पांच लोगों को जीवनदान देकर अमर हो गया 17 साल का सेवाराम

16 फरवरी को बाइक स्लिप होने से हुआ था घायल, बीती रात हो गई मृत्यु

धौलपुर (Dholpur) . राजस्थान (Rajasthan)के धौलपुर (Dholpur) जिले के गांव गंगा दास के पुरा का 17 साल का सेवाराम मरा नहीं है, बल्कि अमर हो गया. उसके परिजनों ने ब्रेन डेड होने के बाद सेवाराम के अंग दान कर दिए, जिससे पांच लोगों को जीवनदान मिला है. सेवाराम के माता पिता अब पांच लोगों में अपने बेटे को देखेंगे और वह अब पांच परिवारों का दुलार पाएगा. माता-पिता ने बड़े ही गर्व से अपने बेटे का नाम सेवाराम रखा और वह मरते मरते पांच लोगों की सेवा कर गया.

  सैमसंग ने #PoweringDigitalIndia प्रतिबद्धता को किया और मजबूत; सैमसंग स्‍मार्ट स्‍कूल पहल के तहत 80 नए नवोदय स्‍कूलों में शुरू की सैमसंग स्‍मार्ट क्‍लासेस

धौलपुर (Dholpur) जिले की निनोखर ग्राम पंचायत के गांव गंगा दास का पुरा का सेवाराम की 16 फरवरी को गांव के नजदीकी अल्हेपुरा के पास बाइक स्लिप हो गई थी. उसके सिर में गंभीर चोट आने से वो घायल हो गया था. परिजन सेवाराम को उपचार के लिए ग्वालियर (Gwalior) ले गए. इसके बाद परिजन सेवाराम को जयपुर (jaipur)के सबसे बड़े अस्पताल एसएमएस ले गए. जहां बीती रात को सेवाराम ब्रेन डेड हो गया.

  सैमसंग एसी के 2021 रेंज के साथ लीजिए ठंडी और ताज़ी हवा का मज़ा

चिकित्सकों ने परिजनों को समझाया और अंगदान करने की अपील की. इस पर परिजन मान गए और उन्होंने सेवाराम के अंगों को दान कर दिया. अंगदान करने के बाद एसएमएस अस्पताल जयपुर (jaipur)में चिकित्सा टीम ने उसे शहीद का दर्जा देते हुए उस पर पुष्पांजलि अर्पित की. राजस्थान (Rajasthan)के मुख्यमंत्री (Chief Minister) अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने ट्वीट कर परिजनों का आभार व्यक्त किया. सेवाराम का शव गांव पहुंचा तो जहां एक तरफ लोगों में बेहद गम था वहीं दूसरी ओर खुद को गौरवान्वित महसूस कर रहे थे.

Rajasthan news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *