रेलवे के 1952 कर्मचारी कोरोना से गंवा चुके जान

नई दिल्‍ली . कोरोना (Corona virus) संक्रमण की वजह से भारतीय रेल के 1952 कर्मचारी अब तक जान गंवा चुके हैं और रोजाना करीब 1000 कर्मचारी संक्रमित हो रहे हैं. एक वरिष्ठ अधिकारी ने सोमवार (Monday) को यह जानकारी दी. रेलवे (Railway)न सिर्फ भारत बल्कि दुनिया का सबसे बड़ा नियोक्ता है, जिसमें 13 लाख कर्मचारी काम करते हैं.

covid-railway

रेलवे (Railway)बोर्ड के अध्यक्ष सुनीत शर्मा ने कहा, रेलवे (Railway)किसी अन्य राज्य या क्षेत्र से अलग नहीं है और हम भी कोविड के मामले झेल रहे हैं. हम परिवहन का काम करते हैं और सामान व लोगों को लाते और ले जाते हैं. रोजाना करीब 1000 (कोविड) मामले सामने आ रहे हैं.

  पेट्रोल 108 व डीजल 100 के पार

उन्होंने कहा, हमारे अपने अस्पताल हैं…हमने बिस्तरों की संख्या बढ़ाई है, रेल अस्पातलों में ऑक्सीजन संयंत्र बनाए हैं. हम अपने कर्मियों का ध्यान रखते हैं. फिलहाल 4000 रेलवे (Railway)कर्मी या उनके परिवार के सदस्य इन अस्पतालों में भर्ती हैं. हमारा प्रयास यह है कि वो जल्दी ठीक हों. पिछले साल मार्च से कल तक 1952 रेल कर्मियों की कोविड-19 (Covid-19) महामारी (Epidemic) से जान जा चुकी है.

  ग्रहों में टकराव से भी प्रभावित वैवाहिक जीवन

ऑल इंडिया रेलवेमेन्स फेडरेशन नाम के एक रेलकर्मियों के संघ ने कुछ दिनों पहले रेल मंत्री पीयूष गोयल को पत्र लिखकर मांग की थी कि कोरोना (Corona virus) संकट के दौरान काम करते हुए जान गंवाने वाले रेलकर्मियों के परिजनों को अग्रिम पंक्ति के कर्मियों की तरह ही मुआवजा दिया जाए.

  वे ट्विटर को नियंत्रित नहीं कर सकते तो अब उसे प्रभावहीन करने का प्रयास कर रहे हैं : ममता

उन्होंने पत्र में कहा कि जैसा कि अग्रिम मोर्चे के कर्मियों के लिये घोषणा की गई है, ये कर्मी भी 50 लाख रुपए के मुआवजे के हकदार हैं, न कि 25 लाख रुपये के जो उन्हें अभी दिया जा रहा है.


न्‍यूज अच्‍छी लगी हो तो कृपया शेयर जरूर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *