दिल्ली के 2 करोड़ लोगों को मुफ्त में लगेगा कोरोना का टीका

नई दिल्ली (New Delhi) . दिल्ली सरकार ने राजधानी के लोगों को मुफ्त में कोरोना का टीका लगाने का एलान किया है. वित्त मंत्री मनीष सिसोदिया ने बजट में टीकारण के लिए 50 करोड़ रुपये देने की घोषणा की है. उन्होंने कहा कि राजधानी के लोगों का दिल्ली सरकार के सभी सरकारी अस्पतालों में मुफ्त में टीका लगाया जाएगा. इसके लिए फंड की कमी नहीं होने दी जाएगी. दिल्ली सरकर के इस एलान से 2 करोड़ लोगों को लाभ मिलेगा. 

सिसोदिया ने बताया कि महिलाओं के लिए 100 विशेष महिला मोहल्ला क्लीनिक अगले साल से शुरु कर दी जाएंगी.  दिल्ली के वित्त मंत्री मनीष सिसोदिया ने बताया कि सरकार ने साल 2021-22 के लिए स्वास्थ्य क्षेत्र के लिए 9,934 करोड़ रुपये के बजट का प्रावधान किया है जो कुल बजट का 14 फीसद है. दिल्ली सरकार ने निर्णय लिया है कि दिल्ली के लोगों को सरकारी अस्पतालों में कोरोना वैक्सीन मुफ़्त में लगाई जाएगी.

  विश्व में कोरोना से 30.19 लाख लोगों की मौत

सिसोदिया ने कहा कि जल्द ही प्रति दिन टीकाकरण 45 हजार से बढ़कर 60 हजार किया जाएगा. ससे पहले भी हाल में ही दिल्ली सरकार ने कहा था कि राजधानी में सभी का फ्री में टीकाकरण होगा. मुख्यमंत्री (Chief Minister) अरविंद केजरीवाल पहले ही केंद्र से मांग कर चुके हैं कि कोरोना वैक्सीन पूरे देश के लोगों को मुफ्त में लगाई जाए.  आम आदमी पार्टी की केजरीवाल सरकार दिल्ली के लोगों को पहले ही बिजली और पानी पहले से ही मुफ्त में मिल रही है. 200 युनिट बिजली खर्च करने पर लोगों से कोई चार्ज नहीं लिया जाता. वहीं, दिल्ली परिवहन निगम की बसों डीटीसी में सभी महिलाओं के लिए टिकट मुफ्त है. इसका लाभ दिल्ली के साथ एनसीआर की उन महिलाओं को मिल रहा है जो डीटीसी की बसों में सफर कर रही हैं.  

  टीकाकरण के लिए आयु सीमा घटाकर 25 साल की जाए, गंभीर बीमारी वालों को पहले टीका लगे - सोनिया गांधी

डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया के पास वित्त मंत्रालय का प्रभार भी है. वित्त मंत्री के रूप में सिसोदिया लगातार सातवीं बार दिल्ली का बजट पेश कर रहे हैं. कोरोना महामारी (Epidemic) के कारण सिसोदिया डिजिटल तरीके से बजट पेश कर रहे हैं. इस बार बजट की थीम देशभक्ति पर आधारित है. आम आदमी पार्टी की सरकार का यह सातवां बजट है. यह तीसरा मौका है जब दिल्ली सरकार ने बजट को थीम आधारित रखते हुए योजना बनाई है. सरकार सबसे पहले स्वराज बजट लेकर आई थी. इसके बाद 2018 में पर्यावरण पर फोकस करते हुए ग्रीन बजट पेश किया था.

Rajasthan news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *