20 से 30 हजार रुपए में बिकने वाले भारतीय मशरूम गुच्छी को जीआई टैग देने की मांग

नई दिल्ली (New Delhi) . देश और दुनिया का सबसे महंगा मशरूम कौन सा है? यह मशरूम भारत में मिलता है. इस मशरूम की डिमांड दुनियाभर में है. इसलिए अब मांग की जा रही है कि इस सब्जी को जीआई टैग दिया जाए. इसके बारे में खुद नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने ट्वीट किया है. आपको बता दें कि यह एक किलो मशरूम खरीदने के लिए आपको खर्च करने पड़ सकते हैं 20 से 30 हजार रुपए. इसे खाने से दिल संबंधी कोई बीमारी नहीं होती. यह एक तरह से मल्टी-विटामिन की प्राकृतिक गोली है.

नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने अपने ट्वीट में लिखा है कि भारत के सबसे महंगे मशरूम के लिए जीआई टैग की मांग की गई है. यह मशरूम जम्मू-कश्मीर के डोडा जिले में पैदा होता है. इसकी कीमत खुदरा बाजार में 20 हजार रुपए प्रति किलो से ज्यादा तक जाती है. पिछली साल केसर को जीआई टैग दिया गया था. इस सब्जी का नाम गुच्छी. यह हिमालय पर मिलने वाले जंगली मशरूम की प्रजाति है. बाजार में इसकी कीमत 25 से 30 हजार रुपए किलो है.

  कोलकाता में पीएम भरेंगे हुंकार तो सिलीगुड़ी में दीदी करेंगी वार

गुच्छी नाम की इस सब्जी को बनाने में ड्राय फ्रूट, सब्जियां और देशी घी का इस्तेमाल होता है. यह भारत की दुर्लभ सब्जी है, जिसकी मांग विदेशों में भी है. लोग मजाक में कहते हैं कि अगर गुच्छी की सब्जी खानी है तो बैंक (Bank) से लोन लेना पड़ सकता है. लजीज पकवानों में गिनी जाने वाली औषधीय गुणों से भरपूर गुच्छी के नियमित उपयोग से दिल की बीमारियां नहीं होती हैं. दिल की बीमारियों से पीड़ित लोग अगर इसे रोज थोड़ी मात्रा में ले तो उन्हें फायदा होगा. इसे हिमालय के पहाड़ों से लाकर सुखाया जाता है. इसके बाद इसे बाजार में उतारा जाता है. इसमें अलग-अलग क्वालिटी की सब्जी आती है.

  पीएम मोदी कोलकाता में भरेंगे हुंकार, मिथुन चक्रवर्ती भी रहेंगे मौजूद

गुच्छी का वैज्ञानिक नाम मार्कुला एस्क्यूपलेंटा है. आमतौर पर मोरेल्स भी कहते हैं. इसे स्पंज मशरूम भी कहा जाता है. यह मशरूम की ही एक प्रजाति मॉर्शेला फैमिली से संबंध रखता है. यह ज्यादातर हिमाचल प्रदेश, जम्मू-कश्मीर के पहाड़ों पर उगाए जाते हैं. कई बार बारिश के सीजन में ये खुद ही उग जाते हैं. लेकिन अच्छी मात्रा में जमा करने में लोगों को कई महीने लग जाते हैं. क्योंकि पहाड़ पर इतनी ऊपर जाकर जान जोखिम में डालकर यह सब्जी लाना इसकी कीमत बढ़ाता है. गुच्छी को बारिश में जमा करके इसे सुखाया जाता है. फिर इसका उपयोग सर्दियों में ज्यादा होता है. अमेरिकी, यूरोप, फ्रांस, इटली और स्विट्जरलैंड के कुल्लू की गुच्छी को बहुत ज्यादा पसंद करते हैं. गुच्छी में पर्याप्त मात्रा में विटामिन-बी, डी, सी और के होता है. इस सब्जी में हद से ज्यादा पोषक तत्व मौजूद होते हैं.

Please share this news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *