1.75 लाख निवेशकों से ठगे 3000 करोड़, ईडी ने बाइक बोट कंपनी के 12 ठिकानों पर की छापेमारी


लखनऊ . ओला और ऊबर की तर्ज पर बाइक टैक्सी चलवाने का झांसा देकर लाखों निवेशकों से करोड़ों रुपए की ठगी करने वाली बाइक बोट कंपनी के लखनऊ, दिल्ली और नोएडा स्थित 12 ठिकानों पर ईडी ने शनिवार को छापेमारी की. छापेमारी के दौरान ईडी के हाथ कई अहम दस्तावेज लगे हैं, जिनसे मनी लॉन्ड्रिंग की अहम कड़ियां जुड़ रही हैं. बाइक बोट कंपनी के खिलाफ नोएडा में 55 और लखनऊ में कैंट व अलीगंज में एफआईआर दर्ज हैं.

बाइक बोट कंपनी ने करीब 1.75 लाख निवेशकों को मोटे मुनाफे का लालच देकर 3000 करोड़ रुपए से ज्यादा निवेश करवाए. इसके बाद लोगों को उनका तय मुनाफा और मूल नहीं लौटाया गया. ईडी के मुताबिक शनिवार को अलग-अलग टीमों ने बाइक बोट लखनऊ में गोमतीनगर के विजय खंड, विवेक खंड, राजाजीपुरम व पारा समेत छह ठिकानों पर छापेमारी की. इनमें एक न्यूज चैनल का दफ्तर भी है. इसके अलावा नोएडा के चार और दिल्ली के दो ठिकानों पर भी दस्तावेज खंगाले गए.

  कोरोना संक्रमण को लेकर चीन पर भड़के लोग, उठी बॉयकाट करने की मांग

ईडी की टीमों ने पैंटल टेक्नॉलजी, पाइमेक्स प्लास्टिक्स, पाइमेक्स ब्रॉडकॉस्ट व प्रेरणा सर्विसेज के ठिकानों पर छापे मारे. पहले ये कंपनियां विजिंदर सिंह उर्फ विजिंदर हुड्डा के नाम पर थीं. बाद में इन कंपनियों को बाइक बोट टैक्सी कंपनी के संचालक पूर्व बीएसपी नेता संजय भाटी ने खरीद लिया. संजय भाटी ने इन्हीं कंपनियों के जरिए निवेशकों द्वारा जमा की गई रकम इधर से उधर की. इसके अलावा ईडी ने बाइक बोट कंपनी से जुड़े मार्स ग्रुप, अकॉर्ड हाइड्रोलिक्स, भसीन इन्फोटेक, नोबेल बिल्डटेक नामक कंपनियों के दफ्तर भी खंगाले.

  कोरोना के संकट में केंद्र ने खोला खजाना

ईडी ने संजय भाटी से जुड़ी दो और कंपनियों गर्वित इनोवेटिव प्रमोटर्स व गर्वित आटोमोटिव के ठिकानों पर भी छापेमारी की. गर्वित आटोमोटिव के कई वाहन एक निजी चैनल संचालक के यहां लगे थे. ईडी ने चैनल में संजय भाटी की हिस्सेदारी को लेकर चैनल के ठिकानों पर भी दस्तावेज खंगाले. बाइक बोट टैक्सी कंपनी के नाम पर पोंजी स्कीम के जरिए 1.75 लाख निवेशकों से जुटाए गए 3000 करोड़ रुपए से ज्यादा की रकम को कंपनी के संचालकों ने बोगस लोन, फर्जी कंपनियों और ट्रस्ट में निवेश व दान के नाम पर ठिकाने लगाया. इन रकम को कुछ कमीशन देकर संचालकों ने दूसरे जरियों से अपने पास वापस ले लिया.

  तबलीगी जमात वालों को क्वारंटाइन करने से दिल्ली सरकार के कर्मचारी नाराज, एलजी-सीएम को लिखा पत्र

ईडी ने कंपनी से जुड़ी इस मनी ट्रेल को ट्रेस कर लिया है. अब इसी के सहारे ईडी हवाला के रैकेट में शामिल अन्य लोगों पर अपना शिकंजा कसेगी. ईडी की पड़ताल के मुताबिक पोंजी स्कीम संचालक संजय भाटी ने निवेशकों की रकम से खुद के और अपने करीबियों के नाम पर प्रॉपर्टी खरीदीं. निवेशकों की रकम को बोगस लोन, ट्रस्ट में निवेश और दान के नाम पर भी इधर से उधर किया गया. फर्जी कंपनियों के जरिए करोड़ों की रकम काले से सफेद की गई. संजय भाटी ने अपने करीबियों व दोस्तों के नाम पर कई शेल कंपनी बनाई और निवेशकों की रकम उनके जरिए भी खपाई.

Check Also

महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमण खतरनाक स्तर पर, अब तक 1364 मामले सामने आए

मुंबई (Mumbai) . महाराष्ट्र में कोरोना के अब तक 1364 मामले सामने आए हैं और …