Friday , 16 November 2018
Breaking News

गाजरघास एक ज्वलंत समस्या : वर्ष पर्यन्त गाजरघास उन्मूलन के प्रति जागरूकता बढ़ाने की जरूरत

उदयपुर. महाराणा प्रताप कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, उदयपुर के तत्वाधान मे गाजर घास जागरूकता सप्ताह का आयोजन अखिल भारतीय समन्वित खरपतवार प्रबंधन परियोजना, अनुसंधान निदेशालय उदयपुर द्वारा 16 से 22 अगस्त, 2018 को किया जा रहा है. सप्ताह पर्यन्त चलने वाले इस कार्यक्रम का शुभारम्भ एमपीयूएटी, उदयपुर के कुलपति प्रोफेसर उमा शंकर शर्मा ने किया. उन्होंने इस खरपतवार से होने वाले नुकसान की विस्तृत विवेचना करते हुए इसके उन्मूलन हेतु वर्ष पर्यन्त उन्मूलन करने व सभी काॅलेजों मे ऐसा अभियान चलाने का आव्हान् किया.

उन्होंने बताया कि अल्पकाल में ही गाजर घास पूरे देश में एक भीषण प्रकोप की तरह लगभग 35 मिलीयन हैक्टेयर भूमि पर फैल चुकी है. अनुसंधान निदेशक डाॅ. ए. के. महता ने गाजर घास से होने वाले नुकसान के प्रति जागरूक रहने का स्पष्ट संदेश देते हुए कहा कि विगत 12वर्षों से इस कार्यक्रम को संचालित किया जाता रहा है जिसके फल स्वरूप महाविद्यालय परिसर में गाजर घास के संक्रमण में सार्थक कमी आयी है परन्तु इस कार्यक्रम की सार्थकता व्यापक क्षेत्र के परिपेक्ष्य में देखी जानी चाहिए. अतः इस दिशा में हमें अथक प्रयास करने होगें. इस अवसर पर आयोजित प्रदर्शनी में गाजरघास से होने वाले नुकसान व उसके समन्वित प्रबन्धन को विस्तर से समझाया गया.

इस अवसर पर राजस्थान कृषि महाविद्यालय के अधिष्ठाता डाॅ. अरूणाभ जोशी ने विधार्थियों का उत्साह वर्धन करते हुए गाजरघास उन्मूलन हेतु भौतिक, रासायनिक व जैविक नियंत्रण विधियों की जानकारी दी तथा इससे होने वाली बीमारियों के बारे में बताया. इस अवसर पर डेयरी व मात्स्यकी महाविद्यालयों के अधिष्ठाता डाॅ. एल. के. मुरडिया व डाॅ. सुबोध शर्मा ने भी अपने विचार व्यक्त किये. माननीय कुलपति प्रो. शर्मा के नेतृत्व मे शस्य विज्ञान के विभागाध्यक्ष, डाॅ. वीरेन्द्र नेपालिया, अन्य विभागाध्यक्ष, परियोजना अधिकारी, डाॅ. अरविन्द वर्मा, सह निदेशक डाॅ. सुभाष भार्गव सहित बड़ी संख्या में संकाय सदस्यों व राजस्थान कृषि महाविद्यालय व मात्स्यकी महाविद्यालय के विद्यार्थियों ने श्रमदान कर कृषि महाविद्यालय के फार्म पर गाजरघास उखाड़ी. परियोजना की सह प्रभारी डाॅ. रोशन चैधरी ने धन्यवाद प्रस्ताव ज्ञापित किया.

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*