चीन में कोरोना वायरस से बुरी तरह प्रभावित वुहान क्षेत्र में अभी भी 80 भारतीय छात्र मौजूद


नई दिल्ली. चीन में कोरोना वायरस से बुरी तरह प्रभावित वुहान क्षेत्र में अभी भी 80 भारतीय छात्र मौजूद हैं, जबकि देश में अब तक तीन मरीजों में कोरोना वायरस के संक्रमण की पुष्टि हुयी है. स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ हर्षवर्द्धन और विदेश मंत्री एस जयशंकर ने शुक्रवार को राज्यसभा में यह जानकारी दी. जयशंकर ने राज्यसभा में बताया कि वुहान शहर से भारतीयों को लेने अलग-अलग दिन गये एयर इंडिया के दो विशेष विमान से पाकिस्तान सहित सभी पड़ोसी देशों के छात्रों को भी साथ आने की पेशकश की गई थी, जिसका मालदीव के सात छात्रों ने लाभ उठाया. डॉ हर्षवर्द्धन ने देश में कोरोना वायरस के प्रभाव की मौजूदा स्थिति के बारे में खुद आधार पर एक वक्तव्य दिया. उनके बयान पर सदस्यों ने स्पष्टीकरण मांगा कि क्या चीन से भारतीयों की स्वदेश वापसी के समय पड़ोसी देशों के नागरिकों को भी लाने की पहल की गई थी?

  प्रदूषित हवा से गर्भस्थ भ्रूण पर भी पड़ रहा बुरा असर, घट रही उसकी लंबाई : अध्ययन

इसके जवाब में विदेश मंत्री ने बताया कि भारत सरकार ने चीन के वुहान क्षेत्र में भारतीय छात्रों को स्वदेश लाने के लिए दो विशेष विमान भेजे थे. उन्होंने बताया कि 80 भारतीय छात्र अभी वुहान में ही हैं. इनमें से 70 छात्र स्वेच्छा से वहां रुके हैं. उन्होंने कहा कि दस भारतीय छात्र चीन में हवाईअड्डे तक आ गए थे. किंतु उन्हें बुखार होने के कारण चीन के अधिकारियों ने देश छोड़ने की अनुमति नहीं दी. इस बीच डॉ हर्षवर्द्धन ने कहा कि हमारे देश में अभी तक चीन से आये लोगों में, कोरोना वायरस के तीन पॉजिटिव मामलों की पुष्टि हुई है. इन लोगों ने अतीत में चीन के वुहान क्षेत्र की यात्रा की थी.

  कोरोना: विमानन बाजार को 29 अरब डॉलर का नुकसान्र

उन्होंने कहा कि इन तीनों को पृथक किया गया है और क्लीनिकल आधार पर उनकी स्थिति स्थिर बताई गई है. डॉ हर्षवर्द्धन ने बताया कि सरकार ने पूरे देश में स्थिति पर निगरानी रखने के लिए स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री की अध्यक्षता में मंत्रियों का एक समूह (जीओएम) बनाया है. डॉ हर्षवर्द्धन ने बताया कि जीओएम में विदेश मंत्री, नागर विमानन मंत्री, गृह राज्य मंत्री, जहाजरानी राज्य मंत्री, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री को शामिल किया गया है. हर्षवर्द्धन ने कहा कि कैबिनेट सचिव विभिन्न विभागों और राज्य के मुख्य सचिवों के साथ स्थिति की नियमित समीक्षा कर रहे हैं. उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय स्थिति की सतत समीक्षा कर रहा है और आए दिन राज्यों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेन्सिंग की जाती है.

इससे पूर्व विदेशमंत्री जयशंकर ने सदन को आश्वस्त किया कि सरकार चीन में भारतीय नागरिकों की मदद के लिए हरसंभव प्रयास कर रही है. उन्होंने बताया कि बीजिंग से भारतीय दूतावास के दो अधिकारी भी वुहान गए थे ताकि छात्रों को वापस स्वदेश भेजा जा सके. विदेश मंत्री की इस घोषणा का सदस्यों ने मेजें थपथपा कर स्वागत किया. जयशंकर ने बताया कि भारतीय विमान में पड़ोसी देशों के छात्रों से भी भारत आने की पेशकश की गई थी. उन्होंने बताया कि इस पेशकश का मालदीव के सात छात्रों ने लाभ उठाया. भाजपा की सदस्य रूपा गांगुली ने पूछा था कि क्या भारत सरकार, चीन के वुहान में फंसे पाकिस्तानी नागरिकों को लाने के लिए भी कोई प्रयास करेगी, क्योंकि देश पहले भी विश्व में इस तरीके से अन्य देशों के नागरिकों की मदद के लिए पहल कर चुका है.

  विकासशील और गरीब देशों को ज्यादा नुकसान पहुंचाते हैं खतरनाक कीटनाशक

Check Also

पुराने नोट बदलने के धंधे में बाबू गिरफ्तार, सिपाही फरार

नई दिल्ली . दिल्ली से सटे ग्रेटर नोएडा में कासना कोतवाली पुलिस ने कमीशन पर …