वेस्ट बंगाल में आईसीएसई के 99.09 तथा आईएससी के 97.58 फीसदी कैंडिडेट्स पास


-मुख्यमंत्री (Chief Minister) ममता बनर्जी ने सफल छात्रों को दी बधाई, कहा- आपके सारे सपने सच हो जाएं

नई दिल्ली (New Delhi) . काउंसिल फॉर इंडियन स्कूल सर्टिफिकेट एग्जामिनेशन ने आईसीएसई और आईएससी रिजल्ट में वेस्ट बंगाल में 10वीं क्लास के 99.09 फीसदी बच्चों ने एग्जाम क्लियर किया. 12वीं का पास प्रतिशत 97.58 फीसदी रहा. आईसीएसई परीक्षा में 382 आईसीएसई स्कूलों के कुल 37,258 छात्रों ने हिस्सा लिया, जिसमें से 36,920 सफल रहे. सीआईएससीई ने कहा कि आईएससी परीक्षा में 270 स्कूलों के 25,058 छात्र (student) उपस्थित हुए, जिनमें से 24,453 सफल रहे. बोर्ड ने दोनों परीक्षाओं के लिए मेरिट लिस्ट जारी नहीं की क्योंकि.

  पानी में घोल कर पी जाने वाली कोरोनारोधी दवा को मंजूरी

कोरोना की वजह से असाधारण परिस्थितियों को देखते हुए आईएससी और आईसीएसई एग्जाम का रिजल्ट पेंडिंग एग्जाम्स को कराए बिना जारी किया गया है. रिजल्ट जारी होने के बाद सीएम ममता बनर्जी ने सफल छात्रों को बधाई दी. उन्होंने स्थिति से निपटने के लिए शिक्षकों और अभिभावकों की सराहना की तथा में आगे की सफलता के लिए एक शुभकामनाएं दी. कहा, आप अच्छा करें. आपके सारे सपने सच हो जाएं.

  अस्पताल में भर्ती होने के लिए पॉजिटिव रिपोर्ट जरूरी नहीं

उल्लेखनीय है कि पर‍िणाम की घोषणा मार्किंग स्‍कीम के आधार पर की गई है. ऐसे में संभव है क‍ि छात्र (student) अपने र‍िजल्‍ट से संतुष्‍ट ना हों. ऐसे में छात्रों के पास दो रास्‍ते हैं- पहला, पेपर दोबारा चेक कराने का और दूसरा दोबारा ऑफलाइन एग्‍जाम आयोज‍ित करने का. पेपर रीचेक करने का व‍िकल्‍प स‍िर्फ उन्‍हें पेपर्स के ल‍िये उपलब्‍ध होगा, जो आयोज‍ित क‍िये गए थे. आपके स्‍कोर क‍िस आधार पर कैलकुलेट क‍िये गए हैं, इसे समझने के ल‍िये छात्रों को पहले यह जानना होगा क‍ि क‍िस मार्क‍िंग स‍िस्‍टम के आधार पर उनके स्‍कोर तय क‍िये गए हैं. जिन विषयों के लिए परीक्षा नहीं हुई है, उनके लिए अंक देने के लिए, तीन उच्चतम स्कोरिंग विषयों में से औसत को गिना जाएगा, जबकि पेपर का आंतरिक मूल्यांकन जिसमें प्रोजेक्‍ट वर्क का काम भी शामिल हो सकता है, को जोड़ा जाएगा. दोनों मार्किंग स्कीमों को 70:30 का वेटेज दिया जाएगा.

न्‍यूज अच्‍छी लगी हो तो कृपया शेयर जरूर करें