दिल्ली से गांव पहुंचा, घर के चंद कदम पहले ही मौत हो गई, लॉकडाउन में चली गई थी नौकरी


चित्रकूट. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के चित्रकूट जिले में गुरुवार (Thursday) की शाम को दिल्ली से गांव लौटे एक प्रवासी मजदूर की मौत हो गई. प्रवासी मजदूर पीर अली (45) दिल्ली में सुरक्षा गार्ड की नौकरी कर रहा था. किराए के गाड़ी से बेटे के साथ गुरुवार (Thursday) की शाम गांव पहुंचते ही घर से चंद कदमों की दूरी पर उसकी मौत हो गई है. वह टीबी से पीड़ित था.

  सभी मेडिकल कॉलेजों में ओबीसी आरक्षण सुनिश्चित करें: सोनिया गांधी

पहाड़ी थाने के एसएचओ सुशीलचन्द्र शर्मा ने शुक्रवार (Friday) को मृतक के परिजन के हवाले से बताया कि पीर अली पहले से क्षय रोग (टीबी) से पीड़ित था और दिल्ली के आनंद विहार में एक कंपनी में सुरक्षा गार्ड की नौकरी कर रहा था. लॉकडाउन (Lockdown) की वजह से कंपनी बंद हो गई और पीर अली की नौकरी चली गई थी. किसी तरह वह किराए के गाड़ी से अपने बेटे इलाही के साथ गांव पहुंचा था. गाड़ी से उतरते ही वह जमीन पर गिर कर बेहोश हो गया और उसकी मौत हो गई.

  कर्णम शेखर आईओबी के प्रबंध निदेशक एवं सीईओ पद से सेवानिवृत्त

परिजन ने उसका अंतिम संस्कार कर दिया है.’ जिले के मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सीएमओ) डॉ. विनोद कुमार ने बताया, ‘पीर अली के शव का और उसके बेटे इलाही का सैंपल लेकर कोरोना (Corona virus) की जांच के लिए प्रयागराज (Prayagraj)भेजा गया है. फिलहाल परिवार के अन्य सदस्यों को पृथक-वास की हिदायत दी गई है.’ उन्होंने बताया कि इससे पहले सरैंया गांव और पथनौड़ी गांव में लौटे एक-एक प्रवासी मजदूर की मौत हो चुकी है, जो बाद कोविड-19 (Kovid-19) से संक्रमित पाए गए.

  फिर होंगे ताजमहल के दीदार, एएसआई कर रहा तैयारी

Check Also

बीएसएनएल ने दिया चीनी कंपनी को बड़ा झटका

नई दिल्‍ली . सार्वजनिक क्षेत्र की दूरसंचार कंपनी बीएसएनएल ने 4जी दूरसंचार नेटवर्क उन्नत बनाने …