अभिनेत्री शर्लिन चोपड़ा ने पोर्न वीडियो केस में बॉम्बे हाई कोर्ट से मांगी अग्रिम जमानत


मुंबई (Mumbai) . बॉलीवुड (Bollywood) की हॉट अभिनेत्री शर्लिन चोपड़ा एक बार फिर चर्चा में हैं. दरअसल, इन दिनों वह पोर्न वीडियो मामले को लेकर चर्चाओं में हैं. पिछले साल अपने कुछ बोल्ड वीडियोज की वजह से शर्लिन चोपड़ा मुसीबत में फंसी हैं, उन पर फ्री पोर्नोग्राफिक वेबसाइट्स पर अश्लील सामग्री पब्लिश करने का आरोप है.

शर्लिन ने अपने आवेदन में कहा है कि वह कंटेट उन्होंने सब्सक्रिप्शन बेस्ड इंटरनेशनल पोर्टल के लिए दिया था और वह पायरेसी का शिकार हुई है. पहले सेशन कोर्ट ने शर्लिन के खिलाफ दायर केस में अग्रिम जमानत याचिका खारिज कर दी थी. शर्लिन चोपड़ा के लिए राहत की खबर ये है कि सोमवार (Monday) तक उन्हें गिरफ्तार नहीं किया जा सकता है. पुलिस (Police) ने भी कोर्ट के सामने ये आश्वान दिया है कि सोमवार (Monday) तक एक्ट्रेस ने खिलाफ कोई एक्शन नहीं होगा.

  आयशा की आखिरी कॉल रिकॉर्डिंग, पति ने कहा था- मर जा और वीडियो जरूर भेजना

पिछले साल रिटायर्ड कस्टम एंड सेंट्रल एक्साइज ऑफिसर मधुकर केनी ने शर्लिन के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई थी. उन्होंने दावा किया था कि जब भी सर्च इंजन पर शर्लिन का नाम लिखा जाता है तो अश्लील कंटेंट सामने आता है. उस शिकायत के आधार पर शर्लिन के खिलाफ केस दर्ज किया गया. शर्लिन पर आईटी एक्ट 2000 के सेक्शन 67 और 67ए के तहत धाराएं दर्ज हुईं. उस समय गिरफ्तारी से बचने के लिए मुंबई (Mumbai) सेशन कोर्ट का रुख किया था लेकिन वहां पर उनकी जमानत याजिका खारिज कर दी गई. इसके बाद एक्ट्रेस ने बॉम्बे हाई कोर्ट में अग्रिम जमानत की अपील की है. उनके केस पर जस्टिस पीडी नाइक 22 फरवरी को सुनवाई करने जा रहे हैं. शर्लिन के मुताबिक, वे दो कंपनीज की डायरेक्टर हैं.

  केन्द्रीय गृह मंत्रालय के आदेश पर 186 लापता विदेशों नागरिकों के गिरेबान तक पहुंची राजस्थान पुलिस

साथ ही वे एडल्ट वेबसाइट के लिए कंटेंट क्रिएट करती हैं. एफआईआर (First Information Report) में बताई गई वेबसाइट में पायरेटेड कंटेंट है. जो कॉपीराइट का उल्लंघन है, क्योंकि वे केवल ओरिजनल प्लेटफॉर्म को ही कंटेंट देती हैं. उनका कहना है कि उन्होंने लगातार उत्पीड़न का सामना किया है जो सब्सक्रिप्शन बेस्ड वेबसाइटों से वीडियो डाउनलोड करते हैं, वॉटरमार्क हटाते हैं और फ्री उपलब्ध कराते हैं. आवेदन में कहा गया है कि शिकायतकर्ता यह नहीं समझ पाया है कि असली अपराधी कौन है.

Please share this news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *