कोरोना के दौर में भाजपा अमानवीय एवं संवेदनहीन व्यवहार कर रही है : अखिलेश


लखनऊ (Lucknow). समाजवादी पार्टी (सपा)के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के पूर्व मुख्यमंत्री (Chief Minister) अखिलेश यादव ने आरोप लगाया है कि कोरोना के दौर में भाजपा अमानवीय एवं संवेदनहीन व्यवहार कर रही है. उन्होंने कहा कि राज्य में कोरोना (Corona virus) के संक्रमितों की संख्या थमने का नाम नहीं ले रही है, ऐसे में हल्के लक्षण वाले मरीजों को घर पर ही ”क्वारंटीन” (पृथकवास) में रहने की अनुमति दी जानी चाहिए.

  अमित शाह दिल्ली के प्रमुख अस्पताल एम्स में भर्ती क्‍यों नहीं हुए ?

अखिलेश ने एक बयान में कहा, ‘‘कोरोना के हल्के लक्षण के मरीजों को घर पर ही क्वारंटीन होने देने की अनुमति देनी चाहिए जिससे अस्पतालों में गम्भीर मरीजों के लिए बिस्तर कम न पड़े और इलाज में भी दिक्कत न हो.” उन्होंने कहा कि अस्पतालों में कोरोना (Corona virus) के नाम पर गम्भीर मरीजों को परेशान करने तथा बाराबंकी के जिला महिला अस्पताल के प्रसूति वार्ड में कोविड ओटी, कोविड वार्ड, कोविड प्रसवकक्ष सब में सीलन और दूसरी निर्माण सम्बंधी खामियां मिलने और लखनऊ (Lucknow) की नामी किंग जार्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी में भी मरीजों को लम्बा इंतजार करने का मुद्दा उठाया.

  जिम-योग के लिए गाइडलाइन जारी : 65 वर्ष से अधिक और 10 साल से कम उम्र के बच्चों इजाजत नहीं

अखिलेश ने दावा किया कि प्रदेश में जो स्वास्थ्य सेवाएं हैं, वे समाजवादी सरकार (Government) की ही व्यवस्था है. भाजपा के राज में एक नया मेडिकल कॉलेज नहीं बना. अस्पतालों में डाक्टरों, पैरा मेडिकल स्टाफ की कमी है. समाजवादी सरकार (Government) में मुफ्त इलाज की व्यवस्था गम्भीर रोगों गुर्दे, हृदय, लीवर और कैंसर की भी थी.

  कोरोना संकट के बीच ई-कामर्स कंपनी अमेजान और फ्लिपकार्ट ला रही सेल

Check Also

Gujarat Hospital Fire : अहमदाबाद के कोविड अस्पताल में आग, 8 कोरोना मरीजों की मौत

गुजरात के अहमदाबाद (Ahmedabad) के नवरंगपुरा में गुरुवार (Thursday) तड़के एक कोविड डेडिकेटेड अस्पताल के …