दुनिया गोल नहीं, यह साबित करने में गई अमेरिकी एस्ट्रोनॉट की जान


कैलिफोर्निया . दुनिया गोल नहीं, यह बात साबित करने के चक्कर में एक अमेरिकी एस्ट्रोनॉट की कैलिफोर्निया में मौत हो गई. अपने विचार को साबित करने के लिए इस एस्ट्रोनॉट ने खुद के बनाए एक रॉकेट से आकाश में उड़ान भरी, लेकिन उसका रॉकेट ऊपर जाते ही धमाके के साथ फट गया और उसका सारा मलबा नीचे फैल गया. इस एस्ट्रोनॉट का नाम माइक ह्यूजेस है जिसे ‘मैड’ माइक ह्यूजेस के नाम से भी जाना जाता है. इस घटना की जानकारी साइंस चैनल ने सोशल नेटवर्किंग साइट टि्वटर पर दी है. टि्वटर ने लिखा है, ह्यूजेस हमेशा से स्पेस में लॉन्च करना चाहते थे. ह्यूजेस लिमोजिन ड्राइवर भी थे जिनके नाम ‘लॉन्गेस्ट लिमोजिन रैंप जंप’ का गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड दर्ज है. साल 2002 में उन्होंने अपनी लिमोजिन कार को 103 फीट (31 मीटर) की ऊंचाई से जंप कराया था.

  यूपी में कोरोना से 12 और लोगों की मौत, 685 नए मामले आये

एक वीडियो में दिखाया गया है कि रॉकेट जैसे ही ऊपर उठता है उसका पैराशूट फट जाता है. भाप से उड़ने वाला रॉकेट ऊपर गया तो जरूर है लेकिन महज 10 सेकंड में ही वह धरती पर गिर गया. वीडियो में रेगिस्तान में गिरते रॉकेट से एक अजीब सी आवाज सुनी जा सकती है. चश्मदीदों का कहना है कि लॉन्चिंग के वक्त रॉकेट किसी निचली सतह से टकरा गया जिससे उसके पैराशूट में दरार आ गई. दुर्घटना की यही बड़ी वजह बताई जा रही है. यह कोई पहला मौका नहीं था जब ह्यूजेस स्पेस की यात्रा पर निकले थे. 2018 में उन्होंने हवा में 1875 फीट (570 मीटर) की उड़ान भरी थी. उन्होंने अपने रॉकेट में दो पैराशूट लगाए थे लेकिन नीचे उतरते वक्त कोई गड़बड़ी आ गई और हादसे में उनकी गर्दन में गंभीर चोटें आई थीं.

  जडेजा ‘सबसे मूल्यवान खिलाड़ी’ घोषित

Check Also

कोरोना संक्रमण पर आमजन करे हैल्थ प्रोटोकॉल का पूरी तरह से पालन: सीएम गहलोत

नई दिल्ली (New Delhi). राजस्थान (Rajasthan) के मुख्यमंत्री (Chief Minister) अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने …