Sunday , 28 February 2021

एंडरसन ने इंग्लैंड एवं वेल्स क्रिकेट बोर्ड की रोटेशन नीति की आलोचना की

अहमदाबाद (Ahmedabad) . अनुभवी तेज गेंदबाज जेम्स एंडरसन ने इंग्लैंड एवं वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) की रोटेशन नीति के आलोचकों से टीम के व्यस्त कार्यक्रम को देखकर इसकी व्यापक तस्वीर पर गौर करने का आग्रह किया है. इंग्लैंड ने रोटेशन नीति के चलते जॉनी बेयरस्टॉ और मार्क वुड को भारत के खिलाफ पहले दो टेस्ट मैचों से बाहर रखा, अब आखिरी दो टेस्ट मैचों के लिए उनकी वापसी हुई है. विकेटकीपर बल्लेबाज जोस बटलर पहले टेस्ट मैच के बाद जबकि आलराउंडर मोईन अली दूसरे मैच के बाद स्वदेश लौट गए.

  इंग्लैंड ने अंपायरिंग का मसला मैच रैफरी श्रीनाथ के सामने रखा

एंडरसन ने कहा, आपको व्यापक तस्वीर पर गौर करना चाहिए. इसके पीछे विचार यह था कि अगर मैं उस टेस्ट (दूसरे मैच) में नहीं खेल पाया तब इससे मुझे गुलाबी गेंद से होने वाले टेस्ट के लिए अधिक फिट होकर मैदान पर उतरने का मौका मिलेगा. केविन पीटरसन सहित कई पूर्व खिलाड़ियों ने ईसीबी की नीति की आलोचना कर कहा कि उस भारत के खिलाफ बड़ी श्रृंखला में अपने सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी उतारने चाहिए. एंडरसन श्रृंखला के पहले मैच में खेल और उन्होंने पांच विकेट लेकर इंग्लैंड की जीत में अहम भूमिका निभायी. दूसरे मैच में उन्हें विश्राम दिया गया था जिसे भारत ने 317 रन से जीता.

  अनअकैडेमी सड़क सुरक्षा विश्व श्रंखला में पीटरसन करेंगे इंग्लैंड लीजैंड्स का नेतृत्व

उन्होंने कहा, मैं अच्छा और तरोताजा महसूस कर रहा हूं और मौका मिलने पर फिर से खेलने के लिए तैयार हूं. यह एक हद तक निराश करने वाला है लेकिन हमें जितनी अधिक क्रिकेट खेलनी है उसे ध्यान में रखते हुए मैं बड़ी तस्वीर पर गौर कर सकता हूं. एंडरसन ने कहा, यह केवल मेरे लिये नहीं, सभी गेंदबाजों के लिये समान है. हमें इस साल 17 टेस्ट मैच खेलने हैं और इनके लिये अपने सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों को फिट और तरोताजा रखने का सर्वश्रेष्ठ तरीका यही है कि उन्हें बीच बीच में थोड़ा विश्राम दिया जाए.’’

Please share this news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *